फिल्म निर्माता लक्ष्मी आर. अय्यर इन दिनों अपनी फिल्म ‘द गांधी मर्डर’ को लेकर हर जगह सुर्खियां बटोर रही हैं. हाल ही में उन्होंने कहा कि अभिनेता ओमपुरी भौतिक चीजों में दिलचस्पी नहीं रखते थे और कभी-कभी इस फिल्म की टीम के लिए सादा भोजन भी बनाते थे. ओम पुरी का छह जनवरी 2018 को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था. वह 66 साल के थे.

लक्ष्मी ने मीडिया से कहा, “ओम सर अपने आप में एक संस्थान थे, जिनसे बहुत कुछ सीखा जा सकता था..वह बहुत विनम्र थे और सबके साथ विनम्रता के साथ पेश आते थे. उन्हें किसी दृश्य के लिए तैयारी करते देखना और फिर बेहतरीन अदाकारी के साथ परफॉर्म करते देखना मेरे लिए आशीर्वाद की तरह था.” उन्होंने कहा, “लह बहुत सरल इंसान थे, जो कभी-कभी टीम के लोगों के लिए सादा खाना भी बनाते थे. उन्हें भौतिक चीजों में दिलचस्पी नहीं थी.”

लक्ष्मी ने कहा, ”द गांधी मर्डर’ एक कमर्शियल ऐतिहासिक थ्रिलर है न कि कोई ‘त्योहारी फिल्म’. यह (फिल्म) 30 जनवरी 1948 को महात्मा गांधी की हत्या के पीछे असली सच पर हमारी समझ है. यह कोई त्योहारी फिल्म नहीं है. यह एक एक्शन थ्रिलर और एक ऐतिहासिक थ्रिलर है इसलिए हम इसे कमर्शियल रूप से रिलीज कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ”महात्मा गांधी उन प्रसिद्ध पुरुषों में से एक थे, जो कभी हमारे बीच रहते थे.” ‘द गांधी मर्डर’ 30 जनवरी 2019 को दुनियाभर में रिलीज होगी.

उन्होंने बताया, “यह आजादी और विभाजन के तुरंत बाद देश की स्थिति और सीमा के दोनों ओर खुद को बेघर पाने वाले लोगों के गुस्से के बारे में बताती है. परिवार के सदस्यों को क्रूर तरीके से काट दिया गया, महिलाओं के साथ दुष्कर्म कर उन्हें मार दिया गया, पुरुषों और बच्चों को जिंदा जला दिया गया. यह भारत के लिए एक भयानक समय था.” ‘द गांधी मर्डर’ 30 जनवरी को रिलीज होगी और ओमपुरी इसमें महत्वपूर्ण भूमिका में हैं.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.