बॉलीवुड में अदाकाराओं को शूटिंग के दौरान कई ऐसी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, इसके बारे में उन्होंने सपने में भी नही सोचा होता. ऐसा ही कुछ हुआ था 26 अप्रैल 1948 को कोलकाता में जन्मीं फेमस अदाकारा मौसमी चटर्जी के साथ, जब फिल्म ‘रोटी कपड़ा और मकान’ के दौरान उन्हें रेप सीन शूट करना पड़ा था. Also Read - मौसमी चटर्जी की बड़ी बेटी पायल का निधन, इस बीमारी से थीं पीड़ित

हिंदी सिनेमा के सबसे डिस्टर्बिंग सीन्स में से एक था ये सीन  Also Read - शर्ट-पैंट में दिखी एंकर तो मौसमी चटर्जी ने दी सलाह- भारतीय कपड़े पहनो, जींस पहन मंदिर नहीं जा सकते

कहा जाता है कि यह फिल्म मौसमी की सबसे बोल्ड फिल्मों में से एक थी. इस फिल्म में उन्होंने तुलसी नाम की एक रेप पीड़िता का रोल निभाया था. यहां तक कि यह रेप सीन हिंदी सिनेमा के सबसे डिस्टर्बिंग सीन्स में से एक माना जाने लगा था. इस सीन को लेकर मौसमी ने अपने एक इंटरव्यू में लोगों के साथ कई बाते साझा की थीं. Also Read - भाजपा में शामिल हुईं 'बालिका वधू', क्या बंगाल में पार्टी इकाई को देगी धार!

प्रेग्नेंसी की हालत में शूट हुआ था ये सीन 

मौसमी ने अपने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि उन्होंने प्रेग्नेंसी की हालत में यह सीन शूट किया था. मौसमी ने ये इंटरव्यू साल 2015 में दिया था, जिसके दौरान उन्होंने बताया कि इस सीन की खूब चर्चा रही थी. लोगों ने इस सीन को बेहद सेंसेटिव करार दिया था. हालांकि इस सीन की शूटिंग बेहद मुश्किल रही, लेकिन उन्होंने इसे शूट कर ही लिया.

इस तरह शूट किया गया था रेप सीन 

उन्होंने बताया कि ‘इस सीन में मैंने दो ड्रेस पहन रखी थी, जिसमें से विलेन ने उपरवाला ड्रेस खींचा था. मेरे बाल बहुत लम्बे थे और सीन के दौरान मुझपर बहुत सारा आटा गिर गया, जिसकी वजह से मेरी हालत बेहद ख़राब हो गई थी. मैं पसीने से तरबतर थी और इसलिए मुझे रोना आ गया. इस दौरान मेरी तबियत भी बेहद बिगड़ गई थी, जिसके बाद डायरेक्टर मनोज कुमार ने मेरी खूब केयर की.

मौसमी ने बताया कि इस फिल्म का फेमस गाना ‘तेरी दो टकिया की नौकरी’ मेरी प्रेग्नेंसी की वजह से ज़ीनत अमान को दे दिया गया था.