नई दिल्ली: ओटीटी पर कहानीकारों ने एंथोलॉजी फिल्मों और शो के साथ कमाल की लोकप्रियता हासिल की है. हालांकि यह शैली पूरी तरह से नई नहीं है, लेकिन ऐसा लगता है कि इसे एक से ज्यादा कारणों से पसंद किया जा रहा है. एक, यह ओटीटी शो और फिल्मों के निर्माताओं को अभिनेताओं के संदर्भ में अधिक परोसने देता है. इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि दर्शकों को कहानी कहने के लिए एक से ज्यादा तरीके मिलते है, जो कि विभिन्न निर्देशकों द्वारा निर्देशित की जाने वाली कहानियों की भीड़ के लिए अच्छा है, इसलिए विभिन्न शैलियों में पेश किया जाता है.Also Read - RAY Trailer: सत्यजीत रे पर आधारित सीरीज 'रे' का ट्रेलर जारी, 4 जबरदस्‍त कहानियों का दिखेगा कॉकटेल

पिछले कुछ सालों में, हमारे पास हिंदी में ‘लूडो’, ‘अनपॉज्ड’, ‘अजीब दास्तान’ और ‘रे’ जैसे संकलन हैं. इस तथ्य के लिए धन्यवाद कि ओटीटी देश और दुनिया भर में सभी दर्शकों को अप्रतिबंधित ²श्य प्रदान करता है, क्षेत्रीय संकलन फिल्में जैसे ‘पुथम पुडु कलई’ और ‘पावा कढईगल’ (दोनों तमिल) ने भी गृह राज्य से परे ध्यान आकर्षित करने में कामयाबी हासिल की है. Also Read - नुसरत भरूचा जानबूझकर ग्लैमरस किरदारों से दूर नहीं गई हैं? अब इस फिल्म में निभाया कामवाली का किरदार

Ludo movie release: Here is how Twitterati reacted to Abhishek Bachchan,  Rajkummar, Pankaj Tripathi starrer | Bollywood News – India TV Also Read - Fatima Sana Shaikh ने अपनी नई फिल्मों के बारे में खोले कई सारे राज, देखें ये एक्सक्लूसिव इंटरव्यू

व्यापार विश्लेषक अतुल मोहन ने आईएएनएस को बताया “हर कोई एक सामान्य रूटीन फिल्म बनाता है लेकिन एंथोलॉजी कठिन और चुनौतीपूर्ण है. दर्शकों का टेस्ट विकसित हुआ है और वे अंतरराष्ट्रीय शो के लिए सामने आए हैं. पहले इसे ‘दस कहानियां’ के साथ आजमाया गया था, लेकिन दर्शकों को तब अवधारणा समझ में नहीं आई थी. अब सिनेमा बनाने और सिनेमा की खपत बदल गई है. हर पीढ़ी की अपनी दिलचस्पी है. पहले सामाजिक, एक्शन और रोमांटिक फिल्में काम करती थीं. यह एक नया प्रारूप है जिसे दर्शक पसंद कर रहे हैं.”

Ajeeb Daastaans Review: Unheard, unseen tales of four brilliantly crafted  flames!

एक फिल्म निर्माता के ²ष्टिकोण से, जहां कोई यह महसूस कर सकता है कि कई रचनात्मक कहानीकारों को लाना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, वहीं श्रीजीत मुखर्जी का अपना विचार है. मुखर्जी ने ‘रे’ में चार में से दो कहानियों का निर्देशन किया है, कहते हैं कि क्या एक फिल्म निर्माता का व्यक्तिगत उपचार प्रभावित होता है, यह जानते हुए कि उनकी फिल्म के साथ दो और कहानियां हैं, जिन्हें दो अन्य द्वारा निर्देशित किया गया है.

उनके मुताबिक, “यह (प्रभावित) होता अगर मुझे पता होता कि दूसरे उनकी फिल्मों के साथ कैसा व्यवहार कर रहे हैं. सौभाग्य से, यहां, ‘रे’ के शो रनर सायंतन मुखर्जी ने किसी को यह नहीं बताया कि दूसरा निर्देशक क्या बना रहा है . मुखर्जी के पास इस बात की पूरी तस्वीर थी कि चार फिल्में कैसे आकार ले रही हैं. ऐसा कोई तरीका नहीं था जिससे एक आदमी की फिल्म दूसरे की फिल्म को प्रभावित कर सके.”

Ray Review: Who steals the Spotlight in new Netflix anthology? - Binge  Watch News

अभिनेता चंदन रॉय सान्याल, जो एंथोलॉजी ‘रे’ में वासन बाला के सेगमेंट ‘स्पॉटलाइट’ में प्रभावशाली थे, बताते हैं कि एक अभिनेता के रूप में एंथोलॉजी का प्रारूप उन्हें क्यों आकर्षित करता है.

चंदन कहते हैं “एक एंथोलॉजी में जो चीज मुझे आकर्षित करती है, वह यह है कि आप एक विषय पर चार अलग-अलग कहानियां बता सकते हैं और हर अभिनेता और निर्देशक की एक अलग व्याख्या होती है. आप प्यार, वासना या हॉरर पर एक ही चीज देख रहे हैं और इस पर हर किसी की अपनी राय है. यह देखकर अच्छा लगता है कि हर किसी का अपना संस्करण होता है. आत्मा एक ही है लेकिन कहानी और उपचार अलग हैं.”

Unpaused review: A middling anthology | Entertainment News,The Indian  Express

इस तैयार स्वीकृति के साथ हाल के संकलनों ने देखा है, निश्चित रूप से अगले महीनों में बहुत से लोग लाइन में होंगे. छह निर्देशकों द्वारा अभिनीत एक नई फिल्म ‘फील्स लाइक इश्क’ की घोषणा कुछ दिन पहले की गई थी. फिल्म में राधिका मदान, अमोल पाराशर, नीरज माधव, तान्या मानिकतला, काजोल चुग, मिहिर आहूजा, सिमरन जहानी, रोहित सराफ, सबा आजाद, संजीता भट्टाचार्य, जैन खान और स्कंद ठाकुर मुख्य भूमिका में होंगे.

इनपुट- आईएएनएस