नई दिल्ली। बॉलीवुड फिल्मों के जाने-माने अभिनेता टॉम अॉल्टर का शुक्रवार देर रात निधन हो गया. बॉलीवुड फिल्मों के अलावा ऑल्टर ने टीवी एक्टर और थिएटर में भी काम किया.  कला और फिल्म जगत में ऑल्टर के अभूतपूर्व योगदान के लिए वर्ष 2008 में उन्हें भारत सरकार की ओर से पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा जा चुका है.

येल की पढ़ाई नहीं आई रास, वापस लौटे भारत

ऑल्टर का जन्म मसूरी में 22 जून 1950 को हुआ था. ऑल्टर की शुरुआती शिक्षा मसूरी के वूडस्टॉक स्कूल में हुई. 18 वर्ष की उम्र में ऑल्टर उच्च शिक्षा के लिए अमेरिका चले गए. वहां उन्होंने येल यूनिवर्सिटी में पढ़ाई की. हालांकि येल में पढ़ाई उन्हें कुछ रास नहीं आई और वो भारत वापस लौट आए. 18 वर्ष की उम्र में ऑल्टर को हरियाणा के एक स्कूल में टीचर की नौकरी मिल गई. यहां उन्होंने छह महीने तक काम किया. इस दौरान ऑल्टर ने स्कूल के बच्चों को क्रिकेट की कोचिंग भी दी. ऑल्टर ने वर्ष 1977 में कैरल इवांस से शादी की. उनके दो बच्चे हैंः बेटा- जेमी, बेटी- अफशां. जेमी. 

नहीं रहे हिंदी फिल्मों के मशहूर अभिनेता टॉम ऑल्टर, कैंसर से जूझ रहे थे

नहीं रहे हिंदी फिल्मों के मशहूर अभिनेता टॉम ऑल्टर, कैंसर से जूझ रहे थे

राजेश खन्ना की फिल्म ‘अाराधना’ से मिली एक्टर बनने की प्रेरणा

टॉम अॉल्टर के एक्टर बनने के वजह भी दिलचस्प है. टीचर के रूप में नौकरी कर रहे अॉल्टर अपने दोस्तों के साथ फिल्म देखने जाते थे. इस दौरान अॉल्टर ने राजेश खन्ना और शर्मिला टैगोर की सुपरहिट फिल्म ‘आराधना’ देखी. वे ‘आराधना’ फिल्म से इस कदर प्रभावित हुए कि नौकरी की परवाह किए बिना एक्टर बनने के लिए संघर्ष शुरू कर दिया. वर्ष 2009 में एक इंटरव्यू के दौरान अॉल्टर ने कहा था कि राजेश खन्ना के वजह से ही मैं फिल्मों मे आया.

FTII से एक्टिंग में गोल्ड मेडल डिप्लोमा के साथ पूरा किया कोर्स

टॉम अॉल्टर को वर्ष 1972 में पुणे स्थित देश के प्रतिष्ठित फिल्म ऐंड टेलिविजिन इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (एफटीआईआई) में दाखिला मिला. अॉल्टर ने एक्टिंग में गोल्ड मेडल डिप्लोमा के साथ कोर्स पूरा किया था.