ढाका: बॉलीवुड की देसी गर्ल प्रियंका चोपड़ा ने सोमवार को बांग्लादेश के कॉक्स बाजार में रोहिंग्या शरणार्थियों से मुलाकात की और इस संकट को भयावह बताते हुए इससे प्रभावित बच्चों की मदद करने की अपील की. प्रियंका चोपड़ा यूनिसेफ की सद्भावना दूत हैं और वो इसी के नाते बांग्लादेश में रोहिंग्या शरणार्थियों से मिलने आई थीं. बॉलीवुड की 35 वर्षीय अभिनेत्री बांग्लादेश की यात्रा पर थीं. कैंप में रह रहे शरणार्थियों से मिलने के बाद प्रियंका ने कहा कि रोहिंग्या शरणार्थियों के बच्चों को एक सुरक्षित भविष्य देने के लिए दुनिया को साथ आने की जरूरत है.

अभिनेत्री ने इंस्टाग्राम पर रोहिंग्या शरणार्थियों के बच्चों के साथ कई तस्वीरें पोस्ट करते हुए कहा, “2017 की दूसरी छमाही में दुनिया ने म्यामार (बर्मा) में जातीय जनसंहार देखा. इस हिंसा ने करीब 7 लाख रोहिंग्या मुस्लिमों को बांग्लादेश भागने पर मजबूर कर दिया, जिनमें से 60 फीसदी बच्चे हैं. इस घटना के कई महीने बाद भी वह सहमे हुए हैं और बेहद भीड़ – भाड़ वाले शिविरों में रह रहे हैं और उन्हें यह भी नहीं पता कि उनका क्या होगा और वह हर दिन इस डर में जीते हैं कि अगली बार भोजन कब मिलेगा.”

इसके आगे प्रियंका ने कहा, ”कि अब जब रोहिंग्या शरणार्थी सेटल हो रहे थे तो मॉनसून सीजन आ रहा है जो कि उनका सबकुछ फिर से छीनने पर आमादा है. यहां एक पूरी पीढ़ी है जिसका कोई भविष्य नजर नहीं आ रहा है. इन बच्चों की मुस्कान में मैं इनकी आंखों में इनके सपने देख सकती हूं. ये बच्चे इस त्रासदी के सबसे ज्यादा शिकार हैं और इन्हें हमारी मदद की जरूरत है. दुनिया को इन बच्चों पर ध्यान देने की जरूरत है, ये बच्चे हमारा भविष्य हैं.