लखनऊ/देहरादून: उत्तराखंड सरकार ने फिल्म ‘केदारनाथ’ को लेकर उठ रही आपत्तियों की जांच के लिए पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज की अध्यक्षता में एक पैनल का गठन किया है. इस फिल्म में 2013 में आयी भयावह आपदा की पृष्ठभूमि में एक प्रेम कहानी को दिखाया गया है. एक आधिकारिक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई है.इस फिल्म में मुख्य भुमिका में सुशांत सिंह राजपूत और सारा अली खान हैं. फिल्म को अभिषेक कपूर ने निर्देशित किया है. यह फिल्म सिनेमाघरों में कल रिलीज होने जा रही है.

बुधवार को गठित की गई सतपाल महाराज की अध्यक्षता वाली इस समिति में सदस्य के रूप में गृह सचिव नितेश झा, सूचना सचिव दिलीप जवालकर और डीजीपी अनिल रतूड़ी शामिल हैं. विज्ञप्ति में कहा गया कि यह पैनल फिल्म के बारे में उठ रही आपत्तियों की जांच करेगा और सरकार को रिपोर्ट सौंपेगा. रिपोर्ट के आधार पर पूरे राज्य में फिल्म के प्रदर्शन के बारे में उचित फैसला लिया जाएगा. उत्तराखंड के एक वरिष्ठ भाजपा नेता ने पहली बार इस फिल्म पर आपत्ति जतायी थी. उन्होंने एक मुस्लिम पोर्टर और एक हिंदू तीर्थयात्री के बीच रोमांटिक प्रेम कहानी को दर्शाने वाली इस फिल्म पर “लव जिहाद” को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है.

‘केदारनाथ’ का रास्ता साफ, उत्तराखंड हाईकोर्ट का रिलीज पर रोक से इनकार

फिल्म ने हिंदू भावनाओं का मजाक उड़ाया: अजेंद्र अजय
फिल्म की रिलीज पर प्रतिबंध लगाने की मांग करने वाले अजेंद्र अजय ने यह भी कहा कि फिल्म की कहानी सबसे भयावह मानवीय त्रासदियों में से एक की पृष्ठभूमि पर आधारित है .इसके बावजूद फिल्म ने हिंदू भावनाओं का मजाक उड़ाया है. हाल ही में इस मुद्दे को लेकर उत्तराखंड उच्च न्यायालय में एक याचिका भी दायर की गई थी. हालांकि, फिल्म के निर्माताओं ने लोगों से अपील की है कि वे फिल्म के सिर्फ टीजर या ट्रेलर को ही देखकर फिल्म के बारे में कोई निष्कर्ष नहीं निकालें.