हिंदी सिनेमा के मशहूर सिंगर मोहम्मद अजीज (Mohammad Aziz) ने 27 नवंबर को इस दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया. उन्होंने 64 साल की उम्र में आखिरी सांस ली.बंगाल की इन्हीं प्रतिभाओं में से एक थे हर दिल अजीज गायक मोहम्मद अजीज (Mohammad Aziz). भारी-भरकम आवाज, लेकिन मासूमियत किसी बच्चे जैसी. बंगाल के अशोकनगर में जन्मे मो. अजीज के मन में बचपन से ही हिंदी सिनेमा के अद्भुत गायक मो. रफी जैसा बनने की ख्वाहिश थी. रफी जैसा बनने के लिए उन्होंने संगीत को चुना था. लेकिन मो. रफी के इस दुनिया को छोड़ने के 5 साल बाद उन्हें हिंदी फिल्म में पहली बार गाने का मौका मिला था. उनके गाए हुए गानों से ही सदी के महानायक अमिताभ बच्चन, गोविंदा और अनिल कपूर को बड़ी पहचान मिली थी. आइए देखते हैं उनके सुपरहिट गाने.

1986 – Dil Diya Hai Jaan Bhi Denge – film – Karma

1988 – Oongli Mein Angoothi Angoothi Mein Nagina – Ram Avtar
1989 – My Name Is Lakhan – Ram Lakhan
1988 – Phool Gulab Ka – Biwi Ho To Aisi
1986 – Duniya Mein Kitna Gham Hai – Amrit
1992 -Tu Mujhe Kabool Main Tujhe Kabool – Khuda Gawah
1991 – Imli Ka Boota – Saudagar
1990 – Kaise Kate Din – Swarg
1991 – Kagaz Kalam Dawat – Hum
1985 – Mard Tangewala – Mard

मोहम्मद अजीज ने अपना पूरा जीवन संगीत को सौंप दिया था. इसलिए वे सिर्फ हिंदी फिल्मी संगीत से बंधकर ही नहीं रहे. हिंदी और बंगाली के अलावा उन्होंने दर्जनभर अन्य भारतीय भाषाओं में भी गाने गाए हैं. 80 और 90 के दशक के दौरान अजीज ने 20 हजार से ज्यादा गाने विभिन्न भाषाओं में गाए. फिल्मी गीतों के अलावा मो. अजीज ने कई भजन भी गाए हैं, जो काफी मशहूर तो हुए ही, वे भजन कर्णप्रिय भी हैं. फिल्मी गीतों से दूर होने के बाद 21वीं सदी में जब बॉलीवुड में ढेर सारे नए गायक आ गए, तो मो. अजीज के बारे में ऐसा सुना जाने लगा कि वे संगीत की दुनिया से दूर हो गए हैं. लेकिन ऐसा नहीं था. वे फिल्मों से भले दूर थे, लेकिन संगीत का साथ बना हुआ था. मगर 2018 की 27 नवंबर की यह तारीख, इस हरफनमौला गायक को छीन ले गई. साथ ही चला गया संगीत की देवी का एक मानस पुत्र.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.