‘डॉटर्स ऑफ मदर इंडिया’ की निर्देशक विभा बख्शी का कहना है कि उनकी लेटेस्ट डॉक्यूमेंट्री ‘सन राइज’ (Son Rise) हरियाणा के ऊपर है, जिसमें पुरुषों का नायक चित्रण किया गया है. यह फिल्म लैंगिंक अधिकार के मुद्दे पर बनी है, जिसकी मंगलवार को स्पेशल स्क्रीनिंग की गई. फिक्की लेडीज ऑर्गेनाइजेशन (एफएलओ) के साथ ही संयुक्त राष्ट्र के हीफॉरशी अभियान के समर्थन से इस फिल्म का प्रदर्शन किया गया.

फिल्म की निर्माता और निर्देशक बख्शी ने कहा, “हिंदी और अंग्रेजी दोनों ही भाषाओं में निर्मित ‘सन राइज’ 50 मिनट की डॉक्यूमेंट्री है. लैंगिक अधिकार को लेकर बनाई गई इस फिल्म में सबसे असंभाव्य स्थान हरियाणा में पुरुषों को ‘नायकों’ के रूप में चित्रित किया गया है, जो खाप पंचायतों की भूमि है और जहां सेक्स अनुपात सबसे अधिक बिगड़ा हुआ है.”

इस फिल्म का प्रदर्शन इंडिया हैबीटैट सेंटर, दिल्ली में किया गया. उद्योग मंडल फिक्की की महिला विंग एफएलओ की अध्यक्ष पिंकी रेड्डी ने कहा, “पुरुषों और महिलाओं को प्रणालीगत सुधार लाने के लिए मिलकर काम करना होगा. समाज में महिलाओं के लिए बराबरी का दर्जा हासिल करने वाली पहलों में पुरुषों को शामिल होना चाहिए, तभी लैंगिक संतुलन आएगा.”

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.