विजय दिवस 16 दिसम्बर को 1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर भारत की जीत के कारण मनाया जाता है. इस युद्ध के अंत के बाद 93,000 पाकिस्तानी सेना आत्मसमर्पण कर देती है. साल 1971 के युद्ध में भारत ने पाकिस्‍तान को करारी शिकस्‍त दी, जिसके बाद पूर्वी पाकिस्तान आजाद हो गया, जो आज बांग्लादेश के नाम से जाना जाता है. यह युद्ध भारत के लिए ऐतिहासिक और हर देशवासी के दिल में उमंग पैदा करने वाला साबित हुआ.देश भर में 16 दिसम्बर को ‘विजय दिवस’ के रूप में मनाया जाता है. वर्ष 1971 के युद्ध में करीब 3,900 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे, जबकि 9,851 घायल हो गए थे. आइए देखते हैं युद्ध पर बनीं कुछ फिल्में.

शहीद- 1965

‘शहीद’ भारत की आजादी की लड़ाई पर आधारित फिल्म है. यह फिल्म भगत सिंह के जीवन पर 1965 में बनी थी जिसे दर्शकों ने काफी पसंद किया था. फिल्म की कहानी स्वयं भगत सिंह के साथी बटुकेश्वर दत्त ने लिखी थी. इस फिल्म के गीत अमर शहीद राम प्रसाद ‘बिस्मिल’ ने लिखे थे. मनोज कुमार ने इस फिल्म में शहीद भगत सिंह का का किरदार अदा किया था. भारतीय स्वतंत्रता संग्राम पर आधारित यह अब तक की सर्वश्रेष्ठ फिल्म है.

बॉर्डर- 1997

जे.पी. दत्ता की फिल्म ‘बॉर्डर’ 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध पर आधारित थी. इस फिल्म की कहानी एक सत्य घटना से प्रेरित थी. इस फिल्म में भारत-पाक युद्ध के समय लड़े गए लोंगेवाला युद्ध को काफी करीब से समझाया गया है. फिल्म की कहानी 1971 मे हुए भारत-पाकिस्तान की लड़ाई से प्रेरित है. कहानी के मुताबिक राजस्थान में 120 भारतीय जवान सारी रात पाकिस्तान की टांक रेजिमेंट का सामना करते थे.

 टैंगो चार्ली

साल 2005 में रिलीज़ हुई फिल्म टैंगो चार्ली (Tango Charlie) लोगों के दिलों में देशभक्ति का ज़ज़्बा जगाने के साथ ही कारगिल युद्ध की याद भी दिलाती है. साल 1999 के कारगिल युद्ध पर बनी इस फिल्म में अजय देवगन और बॉबी देओल मुख्य भूमिका में नज़र आए थे.

हकीकत- 1964

1964 में आई फिल्म ‘हकीकत’ हमें इतिहास से रू-ब-रू कराती है. ये एक ऐसे सैनिकों की टुकड़ी की कहानी थी, जो लद्दाख में भारत-चीन युद्ध के दौरान सोचते हैं कि उनकी मौत निश्चित है लेकिन उनमें से कुछ सैनिकों को कैप्टन बहादुर सिंह (धर्मेंद्र) बचाने में सफल हुए थे.

लक्ष्य- 2004
ऋतिक रौशन और प्रीति जिंटा स्टारर फिल्म ‘लक्ष्य’ 2004 में बनी फरहान अख्तर द्वारा निर्देशित एक सफल फिल्म थी. ऋतिक लेफ्टिनेंट करण शेरगिल की भूमिका में नजर आते हैं, जो अपनी टीम का नेतृत्व कर आतंकवादियों पर जीत पाते हैं. हालांकि यह फिल्म 1999 के कारगिल युद्ध के संघर्ष की ऐतिहासिक घटनाओं पर आधारित एक काल्पनिक कहानी है.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.