फिल्म निर्देशक अनुराग कश्यप ने स्वीकार किया है कि वे फिल्म निर्देशक विकास बहल के खिलाफ लगे यौन शोषण के आरोपों के बारे में जानते थे. उन्होंने कहा कि इस संबंध में सही निर्णय नहीं लेने के लिए उन्हें दुख होता है. कश्यप, विक्रमादित्य मोटवानी और मधु मंटेना के साथ बहल की साझेदारी वाली कंपनी ‘फैंटम फिल्म्स’ की एक महिला कर्मी ने बहल पर गोवा की यात्रा के दौरान उनका यौन शोषण करने का आरोप लगाया था. सात साल चलने के बाद ‘फैंटम फिल्म्स’ अब बंद हो गई है.

कश्यप ने रविवार को ट्विटर पर एक लंबे बयान में कहा, “फैंटम के दौरान हम जो भी कर सकते थे, हमने किया. जैसा हमारे सहयोगी और उसके वकीलों ने हमें बताया. न्यायिक और आर्थिक निर्णयों के लिए मैं पूरी तरह अपने साझेदार और उसके दल पर निर्भर था. वे उन चीजों का ख्याल रखते थे जिससे मैं उन कामों पर ध्यान दे सकूं जिनमें मैं बेहतर और रचनात्मक करता. उनके शब्द और उनके दल के शब्द हमारे लिए किसी भी मामले में अंतिम निर्णय हुआ करते थे.”

उन्होंने लिखा, “उस समय मुझे दी गई विधि सलाह के आधार पर मुझे बताया गया कि हमारे पास सीमित विकल्प हैं. लेकिन अब देखता हूं कि मुझे किस तरह गुमराह किया गया था.”

कश्यप ने बताया कि बहल की सार्वजनिक रूप से निंदा करने के बाद उन्होंने कैसे इन परिस्थितियों का सामना किया. कंपनी ने बहल को कार्यालय परिसर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी और उनके अधिकार छीन लिए.

उन्होंने कहा कि स्टूडियो का अनुबंध उन्हें उनके साझेदार बहल के खिलाफ जाने की अनुमति नहीं देता था.

उन्होंने कहा, “फिल्म उद्योग यौन शोषण, कॉपीराइट, सेंसरशिप जैसे मामलों से निपटने में असमर्थ है. इसका बड़ा कारण यह है कि यहां सही सलाह और विधिक जानकारियों की जागरूकता की कमी है.”
कश्यप ने इस दौरान पीड़िता से माफी मांगी.

बता दें,बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने आरोप लगाया था कि ‘क्वीन’ फिल्म के निर्देशक विकास बहल ने उन्हें कई मौकों पर असहज महसूस कराया था. कंगना का ये बयान प्रोडक्शन हाउस ‘फैंटम फिल्म्स’ की एक महिला कर्मचारी द्वारा फिल्म निर्देशक पर छेड़छाड़ का आरोप फिर से लगाए जाने के बाद आया है.

कंगना ने एक बयान में कहा, ‘मैं पूरी तरह से उस पर (महिला) विश्वास करती हूं. हम जब 2014 में ‘क्वीन’ फिल्म की शूटिंग कर रहे थे उस वक्त शादीशुदा होने के बावजूद भी बहल मेरे सामने यह शेखी बघारते थे कि वह रोज-रोज एक नई लड़की के साथ यौन संबंध बनाते हैं. वह मुझे जल्दी सो जाने और कूल न होने का ताना मारते थे.

रनौत ने कहा, ‘‘ हम जब कभी भी मिलते थे वह मेरी गर्दन पर अपना चेहरा रखकर मुझे कसकर पकड़ते थे और मेरे बालों को सूंघते थे. मुझे उन्हें हटाने में काफी जोर लगाना पड़ता था.’ फिल्म निर्माता हंसल मेहता और पटकथा लेखक अपूर्व असरानी फिल्म उद्योग के ऐसे लोगों में शामिल हैं जिन्होंने विकास बहल की निंदा की है.

कंगना रनौत का ये बयान ऐसे समय में आया है जब तनुश्री दत्ता एक्टर नाना पाटेकर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा चुकी हैं. उनके इक इंटरव्यू में इस खुलासे के बाद से ही फिल्म इंडस्ट्री में हंगामा मचा हुआ है. इसके बाद नाना पाटेकर ने तनुश्री को लीगल नोटिस भी भेजा था तो वहीं तनुश्री भी नाना के खिलाफ पुलिस से शिकायत करने पहुंची थी.

(इनपुट आईएनएस से भी)

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.