मुंबई: बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के अंतिम संस्कार में सोमवार को शामिल हुए विवेक ओबेरॉय ने युवा अभिनेता के असामयिक निधन पर अपना दुख जाहिर किया है. सोशल मीडिया पर लिखे एक पोस्ट में विवेक ने बॉलीवुड को इसकी ताकत का प्रदर्शन करने, ईगो दिखाने, तिकड़मबाजी करने और योग्य प्रतिभाओं के काम को सम्मान नहीं देने को लेकर आईना दिखाया. उनका मानना है, “इंडस्ट्री को बेहतरी के लिए बदलने की जरूरत है.” Also Read - Sushant Singh Rajput Death Case: सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के मामले में बिहार में दायर हुई याचिका, रिया चक्रवर्ती पर लगा गंभीर आरोप

विवेक ने सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए पोस्ट में लिखा, “आज सुशांत के अंतिम संस्कार में शामिल होना काफी तकलीफदेह था. मैं सच में ये चाहता हूं कि काश मैं अपना निजी अनुभव उसके साथ साझा कर पाता और उसके दर्द को कम कर पाता. मैं खुद दर्द भरे सफर से गुजरा हूं और यह बहुत दुखद और अकेलापन हो सकता है. लेकनि मौत इसका जवाब नहीं है, खुदकुशी कभी भी समाधान नहीं हो सकता है, काश वह अपने परिवार, दोस्तों और लाखों प्रशंसकों के बारे में सोचकर रुक गया होता, जो आज इस नुकसान का दुख मना रहे हैं..उसने महसूस किया होता कि लोग उसकी कितनी परवाह करते हैं.” Also Read - सुशांत सिंह की आत्महत्या के बाद सोनू निगम ने बयां की 'सच्चाई', कहा- कल कोई सिंगर भी मर सकता है

विवेक ने कहा कि सुशांत को मुखाग्नि देते समय उनकी पिता की आंखों में जो दर्द था, वह असहनीय था. उन्होंने कहा, “मैं आशा करता हूं कि हमारी इंडस्ट्री जो खुद को परिवार कहती है, गंभीर रूप से कुछ आत्मनिरीक्षण करे. हमें बेहतरी के लिए बदलने की जरूरत है.” विवेक ने कहा कि वह सुशांत के मुस्कुराते चेहरे को हमेशा याद करेंगे.