सामाजिक मुद्दों पर खुल कर बोलने वाली अभिनेत्री रिचा चड्ढा ने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि लोग यौन उत्पीड़न के मुद्दे की हमेशा चर्चा करें, केवल तब नहीं जब यह सोशल मीडिया पर ‘ट्रेंडिंग’ हो. सोशल मीडिया पर ‘मी टू’ अभियान चल रहा है जहां पर दुनिया भर की महिलाएं अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न का अनुभव साझा कर रही हैं.

रिचा ने आईएएनएस से कहा, “पहले तो मैं चाहूंगी कि मीडिया यौन उत्पीड़न के मुद्दे पर अभियान को लगातार चलाए, मौखिक या किसी भी अन्य रूप में. केवल तब जल्दबाजी में इसकी चर्चा ना करे जब यह ट्रेंडिंग टॉपिक हो.”

रिचा ने कहा, “दूसरी बात जो मैं महसूस करती हूं वह यह है कि दुनिया भर के पुरुषों को उस विशेषाधिकार को पहचानने की जरूरत है जो उनके पास है. वे जो चाहे पहन सकते हैं, जहां चाहे जा सकते हैं, किसी के साथ भी घूम सकते हैं. उनके चरित्र पर कोई सवाल भी नहीं उठाएगा.”

रिचा ने आगे कहा, “दुनिया पुरुषों की तरफ झुकी हुई है और ऐसे में मुझे आश्चर्य नहीं है कि महिलाएं ‘मी टू’ अभियान का हिस्सा बन रही हैं.”

यह अभियान हॉलीवुड निर्माता हार्वे विन्सटीन पर लगे यौन उत्पीड़न के कई आरोपों के बाद चलाया गया है.

–आईएएनएस