‘द ग्रेट इंडियन डिस्फंगक्शनल फैमली'(The Great Indian Dysfunctional Family) और ‘वॉट द फोक्स'(What the folks) नामक वेब सीरिज की फेमस एक्ट्रेस ईशा चोपड़ा(Eisha Chopra) ने मी टू(#MeToo movement) पर अपने विचार रखे हैं. उन्होंने कहा कि मीटू मुहिम के कारण वर्कप्लेस पर पुरुषों और महिलाओं की चेतना जागृत हुई है जोकि एक सकारात्मक बदलाव है. ईशा ने मीडिया से कहा, “मैं उन सभी महिलाओं का शुक्रिया अदा करती हूं जो अपनी कहानी के साथ आगे आईं.

उन्होंने कहा, ”मुझे लगता है कि पूरे मीटू मुहिम ने पुरुषों और महिलाओं के बीच सकारात्मक चेतना पैदा की है. इससे हम सभी महिलाएं हमारे कार्यस्थल पर सुरक्षित और आत्मविश्वास से भरी हुई महसूस कर सकती हैं.” हॉलीवुड में आए मीटू मुहिम के बाद भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में भी महिलाओं ने वर्कप्लेस पर होने वाले यौन उत्पीड़न की घटना के खिलाफ आवाज उठाई.

ईशा मानती है कि यह मुहिम कार्यस्थल को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाएगी. ईशा ने कहा, “यौन उत्पीड़न का सामना करने वाले एक पीड़ित व्यक्ति के लिए कई वर्षों बाद अपनी कहानी शेयर करना आसान नहीं होता. जब हमारे पास बुरी यादें होती हैं तो हम उसे खंगालने के बजाय उसे भूलना चाहते हैं.

उन्होंने कहा, “लेकिन ये महिलाएं जो अपनी कहानियां शेयर कर रही हैं वे खुद के लिए ऐसा नहीं कर रही हैं, बल्कि हमारे लिए कर रही हैं. वे ऐसा इसलिए कर रही हैं ताकि वे नई पीढ़ी की महिलाओं के बीच जागरुकता पैदा कर सकें और उन्हें कठिन परिस्थितियों का सामना करने तथा भेदभाव के खिलाफ खड़े होने के लिए तैयार कर सकें.

(इनपुट आईएएनएस)