सदाबहार अभिनेत्री रेखा का कहना है कि फिल्मकार यश चोपड़ा ने उन्हें प्रेम करना सिखाया और उन्हें ‘शायरी’ लिखने के प्रति प्रेरित किया। ‘यश चोपड़ा मेमोरियल अवार्ड’ से सम्मानित हुईं रेखा ने कहा, “यश जी के बारे में कहना ‘छोटा मुंह बड़ी बात’ होगी। मैं उनके बारे में निश्चित तौर पर एक बात कहना चाहूंगी कि उन्होंने मुझे प्रेम करना सिखाया।”

रेखा ने आगे कहा, “उनकी फिल्मों को देखने से ही मुझे प्रेम का एहसास हुआ। यह एक अहसास है, जो हर किसी की अदृश्य भावना है, जो प्रत्येक व्यक्ति महसूस करता है।”

रेखा जितनी खुबसूरत हैं उनकी ज़िंदगी की कहानी है उतनी ही ‘बदसूरत’

रेखा ने पुरस्कार प्राप्ति के बाद अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “इस पुरस्कार कह रहा है कि पर्दे अभी गिरे नहीं है, अभी आगामी भविष्य में और भी चीजें आना बाकी है। इस पुरस्कार से मुझे यह बात याद रहेगी कि मुझे और भी बेहतर करना है। यह मेरे जीवन का आखिरी पन्ना नहीं है, अभी और भी पन्ने बाकी हैं।”

रेखा ने यश चोपड़ा द्वारा निर्देशित फिल्म ‘फासले’ और ‘सिलसिला’ में काम किया था।

रेखा ने कहा, “यश जी के साथ काम करते हुए मैं शायर भी बनी। उन्होंने मुझे सिखाया और इसके लिए प्रेरित किया।”

‘यश चोपड़ा मेमोरियल अवार्ड’ दिग्गज दिवंगत फिल्मकार की याद में टी सुब्बारामी रेड्डी के टी.एस.आर फाउंडेशन द्वारा दिया जाता है।