नई दिल्ली: योगी सरकार की चर्चा इन दिनों ज़ोर शोर से चल रही है. बीते दिनों उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फिल्म जगत के लिए एक बड़ा दावा पेश किया था मगर अब उस दावे की मंजूरी की बात भी सामने आ गई है. योगी सरकार ने फिल्म सिटी के लिए 1000 एकड़ की उपलब्ध कराई है. यमुना एक्सप्रेस वे के क्षेत्र में फिल्म सिटी के लिए ज़मीन मुहैया कराई गई है.Also Read - UP Election 2022: Election Commission ने शिक्षामित्रों, आंगनवाड़ी सदस्यों को चुनाव ड्यूटी से राहत दी

Also Read - UP Election 2022: Zee Opinion Poll में पता चला उत्तर प्रदेश की जनता का मूड, योगी हैं सबसे आगे  

हाल ही में चांदनी बार, पेज 3, ट्रैफिक सिग्नल और फैशन जैसी फिल्में बनाने वाले फिल्मकार मधुर भंडारकर ने रविवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की. इस दौरान दोनों ने गौतमबुद्ध नगर जिले में देश के ‘सबसे बड़े और सबसे खूबसूरत फिल्म सिटी’ के बनाए जाने को लेकर मुख्यमंत्री की घोषणा पर चर्चा की. मुख्यमंत्री ने फिल्म निर्माता को भेंट स्वरूप एक सिक्का दिया, जिसमें भगवान राम की तस्वीर उकेरी गई थी और इसके साथ ही रामचरितमानसकी एक प्रति, तुलसी के बीजों की एक माला व एक भव्य कुंभ कॉफी टेबल भी दी, जिसे पिछले साल प्रयागराज में आयोजित किया गया था. Also Read - 7th Pay Commission: उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य कर्मचारियों का डीए बढ़ाया, जानें- कितनी बढ़ेगी सैलरी?

सरकार की तरफ से एक प्रवक्ता के मुताबिक, भंडारकर ने मुख्यमंत्री को फिल्म सिटी की योजना के लिए बधाई दी और फिल्म बिरादरी से पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया. आदित्यनाथ ने एनसीआर में फिल्म सिटी की परियोजना के लिए अधिकारियों को उपयुक्त जमीन ढूंढने को कहा था.

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जारी एक बयान में कहा गया, “सीएम ने गौतमबुद्धनगर जिले में देश की सबसे बड़ी और सबसे खूबसूरत फिल्म सिटी स्थापित करने की घोषणा की है. उन्होंने अधिकारियों को नोएडा, ग्रेटर नोएडा या यमुना एक्सप्रेसवे में या उसके आसपास एक उपयुक्त जमीन ढूंढने और इस पर काम शुरू करने के निर्देश दिए है.”

भाजपा की यूपी इकाई के सचिव चंद्र मोहन ने कहा कि प्रस्तावित फिल्म सिटी से रोजगार के अवसर पैदा होंगे, सरकार की आय बढ़ेगी और साथ ही इससे राज्य की समृद्ध विरासत भी उजागर होगी.