नई दिल्ली: बॉलीवुड की दुनिया में ऐसी बहुत कम स्ट्रगल स्टोरी हैं जिसे सुनकर उम्मीद, मेहनत और सब्र जैसे लफ्ज़ पर यक़ीन बढ़ जाए. इस मायानगरी में सांस लेता हर सितारा अपने साथ कई कहानियां लेकर घूमता है मगर आज जानिए कैसे एक एक्ट्रेस ने अपनी निजी परेशानियों से टूटने के बाद भी हिम्मत नहीं हारी. जी हां, हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में अपनी अदाओं से सबको मदहोश कर देने वाली अदाकारा ज़रीन खान (Zareen Khan) ने कुछ ऐसी बातें बताई हैं जिसे सुनकर आपके दिल में उनके लिए और इज़्ज़त बढ़ जाएगी. Also Read - जरीन खान, अंशुमन झा स्टारर फिल्म 'हम भी अकेले, तुम भी अकेले' की रिलीज डेट बदली

हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में ज़रीन ने बताया कि कैसे बचपन में ही उनके पिता ने उनका साथ छोड़ दिया था. आर्थिक तंगी से परेशान इस परिवार को पिता का साथ नहीं मिल सका. इस हादसे के बाद ज़रीन की मां पूरी तरीके से बिखर चुकी थीं. घर पर निवाले के इंतज़ाम का ज़िम्मा उठाया इस एक्ट्रेस ने. आपको जानकार हैरानी होगी कि बारहवीं की पढ़ाई पूरी करने के बाद ज़रीन ने कॉल सेंटर में काम करना शुरू कर दिया. Also Read - बॉलीवुड अभिनेत्री जरीन खान ने कहा- समलैंगिकता पर बनाई जानी चाहिए फिल्में, ताकि...


इस संघर्ष की कहानी सुनाते हुए ज़रीन ने बताया कि उन्हें एयरलाइन्स में काम करने का मन था लेकिन उस वक़्त उनका वज़न 100 किलो था. इसके लिए इस एक्ट्रेस ने 52 किलो वजन कम भी किया था. कुछ वक़्त बाद ज़रीन ने अपना रुझान फिल्म इंडस्ट्री की तरफ दिखाया. ‘युवराज’ के सेट पर सबसे पहली बार सलमान खान ने ज़रीन को नोटिस किया और फिर इस तरीके से उनके दामन में ‘वीर’ फिल्म आई. ज़रीन ने कहा की आज उनकी क़ामयाबी को देखकर उनकी माँ बहुत खुश हैं.