Shravan 2019: सावन के पवित्र महीने में चार सोमवार होंगे. शिव पूजा करने वालों के लिए ये दिवस बेहद खास होते हैं. Also Read - Hartalika Teej 2020: माता पार्वती ने भगवान शिव के लिए रखा था तीज का व्रत, ऐसे मिला था अखंड सुहाग का वरदान, जानें इसकी कथा

इन सोमवार को शिव पूजा व व्रत तो किया जाता है, पर क्‍या आप जानते हैं कि सावन के सोमवार से ही 16 सोमवारी व्रत का आरंभ भी किया जाता है. Also Read - अगर आप भी हर सोमवार करते हैं भगवान शिव की पूजा, तो इन बातों का रखें खास ध्यान

कब करें शुरू
वैसे तो सोमवारी व्रत का प्रारम्भ श्रावण, चैत्र, वैशाख, कार्तिक या मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष के प्रथम सोमवार से कर सकते हैं. पर अगर इसे सावन के सोमवार से आरंभ किया जाए तो फल दोगुना मिलता है. Also Read - श्वेता सिंह कीर्ति ने दिखाया भगवान शंकर का रौद्र रूप, न्याय तो अब मिलकर रहेगा?

कैसे करें पूजन
सोमवार व्रत में भी भगवान शिव का पूजन उसी तरह से किया जाता है जैसे दूसरे व्रतों में होता है. सुबह नित्‍य-कर्मों से निवृत्‍त होकर भगवान शिव का ध्‍यान करें. ॐ नमः शिवाय, ॐ गं गणपतये नमः और ॐ श्रां श्रीं श्रौं सः चन्द्रमसे नमः का जाप करें. सोमवार व्रत पूजन काल सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक कभी भी कर सकते है परन्तु सूर्योदय का पूजन ज्यादा अच्छा होता है.

सावन के सोमवार
इस बार सावन में 4 सोमवार आएंगे. पहला सोमवार 22 जुलाई 2019 को है. दूसरा 29 जुलाई को और तीसरा सोमवार 5 अगस्त को है. इसी बीच 31 जुलाई 2019 को हरियाली अमावस्या भी है. चौथा और सावन का आखिरी सोमवार 12 अगस्त को है. 15 अगस्त को सावन का आखिरी दिन है.