Akshaya Tritiya 2020 in Hindi: अक्षय तृतीया Akshaya Tritiya 2020 या आखा तीज वैशाख मास में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को कहते हैं. पौराणिक ग्रंथों के अनुसार इस दिन जो भी शुभ कार्य किये जाते हैं, उनका अक्षय फल मिलता है. इसी कारण इसे अक्षय तृतीया कहा जाता है. वैसे तो सभी बारह महीनों की शुक्ल पक्षीय तृतीया शुभ होती है, किंतु वैशाख माह की तिथि स्वयंसिद्ध मुहूर्तो में मानी गई है. इस दिन स्नान, दान, और तर्पण किया जाता है. इस साल अक्षय तृतीया 26 अप्रैल, रविवार को मनाई जाएगी. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन कोई भी शुभ काम बिना पंचांग देखे किया जा सकता है. Also Read - Akshaya Tritiya 2020 Date: रविवार को इस मुहूर्त पर करें अक्षय तृतीया का पूजन, जानें सोना खरीदने का सही समय

अक्षय तृतीया 2020 का मुहूर्त- Also Read - Akshaya Tritiya 2020: लॉकडाउन में भी आसानी से खरीद सकेंगे सोना, मिलेंगे खास ऑफर

अभिजीत : 11:52 −12:44
अमृत कालम् : 19:25 − 21:08 Also Read - अक्षय तृतीया 2019: कब है अक्षय तृतीया, जानिए शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

अक्षय तृतीया का योग-
शोभना, 23:50 तक

Akshaya Tritiya Importance in Hindi (अक्षय तृतीया का महत्व)

अक्षय तृतीया का सर्वसिद्ध मुहूर्त के रूप में भी विशेष महत्व है. मान्यता है कि इस दिन बिना कोई पंचांग देखे कोई भी शुभ व मांगलिक कार्य जैसे विवाह, गृह-प्रवेश, वस्त्र-आभूषणों की खरीददारी या घर, भूखंड, वाहन आदि की खरीददारी से संबंधित कार्य किए जा सकते हैं.[3] नवीन वस्त्र, आभूषण आदि धारण करने और नई संस्था, समाज आदि की स्थापना या उदघाटन का कार्य श्रेष्ठ माना जाता है. पुराणों में लिखा है कि इस दिन पितरों को किया गया तर्पण तथा पिन्डदान अथवा किसी और प्रकार का दान, अक्षय फल प्रदान करता है. इस दिन गंगा स्नान करने से तथा भगवत पूजन से समस्त पाप नष्ट हो जाते हैं. यहाँ तक कि इस दिन किया गया जप, तप, हवन, स्वाध्याय और दान भी अक्षय हो जाता है. यह तिथि यदि सोमवार तथा रोहिणी नक्षत्र के दिन आए तो इस दिन किए गए दान, जप-तप का फल बहुत अधिक बढ़ जाता हैं.

अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) के दिन क्यों खरीदा जाता है सोना

माना जाता है कि अगर आप इस दिन सोना खरीदते हैं तो यह आपके जीवन में अनंत समृद्धि आती है. जिसका शुभ फल आपके साथ आपके पूरे परिवार को मिलता है. इस दिन खरीदा गया सोना आपके परिवार की सभी पीढ़ियों के साथ बढ़ता रहेगा. वैदिक काल से ही सोना बेहद प्रिय कीमती धातुओं में शामिल है. सोना न सिर्फ धन और समृद्धि का प्रतीक है, बल्कि समय के साथ इसके मूल्य में भी बढ़ोत्तरी होती रहती है. माना जाता है कि अक्षय तृतीया के दिन सूरज की किरणें बहुत तेज धरती पर पड़ती हैं. सूर्य की तुलना सोने से की जाने की वजह से इस दिन सोना खरीदना शक्ति और ताकत का प्रतीक माना जाता है.