अमरनाथ यात्रा (Amarnath Yatra) फिर से शुरू हो गई है. एक दिन पहले इस रोक दिया गया था.

जानकारी के अनुसार, खराब मौसम के कारण रविवार को रद्द रही अमरनाथ यात्रा सोमवार को फिर से बहाल हो गई है. पुलिस ने कहा है कि 2,675 तीर्थयात्रियों का एक जत्था भगवती नगर यात्री निवास से घाटी के लिए दो सुरक्षा काफिले में रवाना हुआ.

पुलिस ने कहा, “इनमें से 1,131 यात्री बालटाल आधार शिविर जा रहे हैं, जबकि 1,544 पहलगाम आधार शिविर जाएंगे.”

श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) के अधिकारियों ने कहा, “चल रही यात्रा के 28वें दिन 1,629 यत्रियों ने पवित्र गुफा में अमरनाथजी के दर्शन किए. अब तक पवित्र गुफा में 3,19,355 यत्रियों ने शिवलिंग के दर्शन किए हैं.”

कश्मीर में हिमालय पर्वतमाला में समुद्री तल से 3,888 मीटर की ऊंचाई पर स्थिति अमरनाथ गुफा में एक बर्फ की संरचना बनती है, श्रद्धालुओं के अनुसार, यह भगवान शिव की पौराणिक शक्तियों का प्रतीक है.

बता दें कि पवित्र गुफा की खोज सन 1850 में एक मुस्लिम चरवाहे बूटा मलिक ने की थी. किवदंतियों के अनुसार, एक सूफी संत ने चरवाहे को कोयले से भरा एक बोरा दिया था, जो बाद में सोने से भरे बोरे में बदल गया था.

लगभग 150 सालों से चरवाहे के वंशजों को पवित्र गुफा पर आने वाले चढ़ावे का कुछ भाग दिया जाता है. इस साल 45 दिवसीय अमरनाथ यात्रा का समापन 15 अगस्त को श्रावण पूर्णिमा के साथ होगा.