कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को आंवला नवमी के रूप में मनाया जाता है. आज यानि की 23 नवबंर को आंवली नवमी मनाया जा रहा है. इसे अक्षय नवमी भी कहा जाता है. इस दिन महिलाएं परिवार की सुख और शांत के लिए आंवला वृक्ष की परिक्रमा लगाकर पूजा करती है. आंवला वृक्ष के नीचे पकवानों का भोग लगाया जाता है और उन्हीं पकवानों से अपना व्रत खोलती हैं. आंवला नवमी के के दिन आंवला वृक्ष की पूजा का विशेष महत्व है. Also Read - Akshay Navami 2019: आज के दिन इन खास उपायों को करने से पूरी होगी आपकी हर मनोकामना

हिंदू धर्मों से सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण अनुष्ठानों में से एक अक्षय नवमी को कहा जाता है. अक्षय नवमी के किए गए दान या किसी धर्मार्थ कार्य का लाभ व्यक्ति को वर्तमान और अगले जन्म में भी प्राप्त होता है. अक्षय नवमी देव उठनी एकादशी के से दो दिन पहले मनाई जाती है.अक्षय नवमी का महत्व बहुत ज्यादा है. इस पर्व को बेहद ही श्रद्धा और समर्पण के साथ मनाया जाता है. ऐसे में जानें इससे जुड़ी खास बातें. Also Read - Akshay Navami 2019: अक्षय नवमी महत्‍व, शुभ मुहूर्त, आंवले के पेड़ की पूजन विधि...

इस अवसर पर महिलाओं द्वारा सामूहिक पूजन, वृक्ष परिक्रमा सहित अन्य धार्मिक कार्यक्रम श्रद्धा पूर्वक संपन्न किये जाते हैं. महिलाएं आंवला वृक्ष की 108 परिक्रमा लगाकर पूजा करती है. अहले सुबह स्नान करने के बाद आंवला पेड़ पर कच्चा दूध, हल्दी, रौली लगाया जाता है. इसके बाद आंवला पेड़ की परिक्रमा कर व्रती मौली बांधती है. आंवला के पेड़ पर दूध चढ़ाएं और सिंदूर, चंदन से तिलक कर शृंगार का सामान चढ़ाया जाता है. धार्मिक मान्यता है कि अक्षय नवमी पर मां लक्ष्मी ने पृथ्वी लोक में भगवान विष्णु एवं शिव की पूजा आंवले के रूप में की गयी थी और इसी पेड़ के नीचे बैठकर भोजन ग्रहण किया था.

यह भी कहा जाता है कि आंवले के पेड़ के नीचे श्री हरि विष्णु के दामोदर स्वरूप की पूजा की जाती है. यह भी मान्यता है कि आंवला नवमी के दिन आंवला के पेड़ में भगवान विष्णु का वास होता है और आंवला नवमी की पूजा करने से श्रीहरि विष्णु का सानिध्य प्राप्त होता है. आंवला नवमी की कथा मां लक्ष्मी से जुड़ी होने के कारण इस दिन सबसे पहले मां लक्ष्मी की पूजा का विधान है. इस दिन पूजा करने से मां लक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु और शिवजी की कृपा भी प्राप्त होती है. मान्यता है कि आंवला के सेवन करने मात्र से ही श्री हरि प्रसन्न होते हैं.

पूजा के लिए शुभ मुहूर्त
आंवला नवमी या अक्षय नवमी की पूजन प्रातः सूर्योदय के बाद किसी भी समय किया जा सकता है. लेकिन, शुभ मुहूर्त प्रातः 6 बज कर 6 मिनट से 7 बज कर 26 मिनट तक, दिवा 09:01 से 10:09 बजे तक, दिवा 11:11 से 11:52 बजे तक एवं दिवा 12: 54 से संध्या 04:57 बजे तक पूजा की शुभ मुहूर्त है.