कार्तिक मास (kartik Maas 2020) हिन्दू धर्म में अत्यधिक पवित्र महीना माना जाता है. 1 नवंबर से 30 नवंबर तक कार्तिक मास रहेगा. शास्त्रों में इस महीने को बेहद पवित्र माना जाता है और साथ ही इस महीने में व्रत और तप करना बेहद महत्वपूर्ण जाना जाता है. कहा जाता है कि इस दौरान अगर आपने शास्त्रों में दिए गए नियमों का पालन किया तो आपको सुख की प्राप्ति होगी. इसके साथ ही इस मास में न केवल भगवान विष्णु बल्कि मां लक्ष्मी को अत्यंत प्रिय होता है. Also Read - Dev Uthani ekadashi 2020 Remedies: इस देव उठनी एकादशी पर करें ये उपाय, मिलेगा भगवान विष्णु का खास आशीर्वाद

ह चातुर्मास का आखिरी महीना है. इसी माह से देव तत्व मजबूत होता है. इस महीने में धन और धर्म दोनों से संबंधित प्रयोग किए जाते हैं. इसी महीने में तुलसी का रोपण और विवाह सर्वोत्तम होता है. इस महीने में दीपदान और दान करने से अक्षय शुभ फल की प्राप्ति होती है. इस दौरान आपको कई सारी चीजें करनी होती हैं जिससे आपकी सारी मनोकामना पूरी हो सकती है. तो चलिए जानते हैं कार्तिक मास में आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए. Also Read - Papankusha Ekadashi 2020: जानें कब है पापांकुशा एकादशी, ये है व्रत की मान्यता जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

कार्तिक मास में मां लक्ष्मी की कृपा
कार्तिक मास में ही दीपावली जैसा बड़ा पर्व मनाया जाता है, फिर भी इस दौरान कार्तिक मास में हर दिन मां अपने घर में लक्ष्मी की पूजा करें ताकि उनकी कृपा आपके घर पर बरसती रहे. कार्तिक मास में रोज रात्रि को भगवानं विष्णु और लक्ष्मी जी की संयुक्त पूजा करें. गुलाबी या चमकदार वस्त्र धारण करके उपासना करें. Also Read - Parama Ekadashi 2020: आज परम एकादशी पर करें भगवान विष्णु की पूजा, जीवन में आएगी समृद्धि

कार्तिक मास में धन की प्राप्ती
ये मास श्री हरि का अत्यंत प्रिय है और मां लक्ष्मी को भी ये मास बेहद पसंद है. कहते हैं कि इस महीने ही भगवान विष्णु योग निद्रा से जागते हैं और सृष्टि में आनंद और कृपा की वर्षा होती है. इसके साथ ही मां लक्ष्मी धरती पर भ्रमण करती हैं और भक्तों को अपार धन देती हैं. इसलिए इस दौरान मां लक्ष्मी की पूजा करना बेहद शुभ माना गया है. मां लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए ही इस महीने धन त्रयोदशी, दीपावली और गोपाष्टमी मनाई जाती है. इस महीने विशेष पूजा और प्रयोग करके आप आने वाले समय के लिए अपार धन पा सकते हैं और कर्ज व घाटे से मुक्त हो सकते हैं.

इन नियमों का करें पालन:
1.तुलसी के पौधे की पूजा करना और उनकी सेवा करना इस महीने में बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है. इस दौरान मां तुलसी की पूजा करने का महत्व दोगुना हो जाता है.

2. इसके साथ ही इस दौरान अगर आप सनीचे सोते हैं तो मन में पवित्र विचार आते हैं. दरअसल भूमि पर सोना कार्तिक मास का तीसरा प्रमुख काम माना गया है.

3.कार्तिक मास में ब्रह्मचर्य का पालन जरूरी है. इसका पालन नहीं करने पर पति-पत्नी को दोष लगता है और इसके अशुभ फल भी प्राप्त होते हैं.

4. कार्तिक के पवित्र महीने में दीपदान जरूर करना चाहिए. कहा जाता है कि इससे पुण्य की प्राप्ति होती है. इस महीने में नदी, पोखर, तालाब आदि में दीपदान किया जाता है.

5.कार्तिक महीने में शरीर पर तेल नहीं लगाया जाता है. इस महीने में सिर्फ एक दिन यानी नरक चतुर्दशी पर ही तेल लगाया जाता है.