Ayodhya Ram Mandir: श्रीराम मंदिर निर्माण के प्रथम चरण की शुरूआत हो गयी है. बुधवार सुबह गर्भगृह से पहली बार रामलला को बाहर निकालकर नए आसन पर विराजित किया गया. इस दौरान यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मौजूद रहे. उनकी गोद में ही रामलला को नए स्थान पर ले जाया गया. Also Read - अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर बोला हमला, कहा- यूपी में चरम पर है गुंडाराज और भ्रष्टाचार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट के माध्यम से लिखा, “भव्य राम मंदिर के निर्माण का पहला चरण आज सम्पन्न हुआ, मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम त्रिपाल से नए आसन पर विराजमान. मानस भवन के पास एक अस्थायी ढांचे में “रामलला” की मूर्ति को स्थानांतरित किया गया. भव्य मंदिर के निर्माण हेतु 11 लाख का चेक भेंट किया”. Also Read - यूपी सरकार के 3 साल पूरे होने पर CM योगी बोले- चुनौतियों ने हमें जूझने की प्रेरणा दी

इसके पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति में शंखनाद व घंटे-घड़ियाल के बीच भोर में फूल व अक्षत के बीच रामलला की पालकी नए मंदिर के लिए प्रस्थान हुई. Also Read - बाबरी विध्वंस मामले में 24 मार्च को दर्ज होंगे आरोपियों के बयान

रामलला का नया सिंहासन साढ़े नौ किलो चांदी से बनवाकर अयोध्या राज परिवार के मुखिया विमलेन्द्र मोहन प्रताप मिश्र ने रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को समर्पित कर दिया है. चांदी के सिंहासन पर रामलला विराजमान होंगे. वैकल्पिक गर्भगृह में रामलला की गरिमा व सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध और दर्शनार्थियों की सुविधा का पूरा ध्यान रखा गया है.

10 वैदिक आचार्यों का समूह ने वेद मंत्रों के साथ रामलला को वैकल्पिक गर्भगृह में स्थापित किया. यह वैदिक विद्वान दिल्ली, प्रयागराज, काशी और अयोध्या के हैं.
(एजेंसी से इनपुट)