नई दिल्ली: कभी 22 तो कभी 23 अगस्त की बात कही जा रही थी, लेकिन ईद-उल-अजहा (Eid-ul-Adha) यानी बकरीद 22 अगस्त को ही मनाई जाएगी. पिछले कुछ दिनों से इसे लेकर चल रही पशोपेश खत्म हो गई है. ऐसा संभवतः पहली बार था जब मुस्लिम धर्मगुरुओं के बीच त्यौहार और चांद को लेकर पशोपेश थी, लेकिन बैठकों के दौर और देश के अलग-अलग हिस्सों से आई चांद देखने की गवाही पर सहमति के बाद बकरीद को 22 अगस्त को मनाने का ऐलान कर दिया गया. इमरात ये शरीयत हिन्द समेत कई समितियों ने इस बकरा ईद की इस तारीख पर अपनी सहमति जताई है. बता दें कि चांद होने के ठीक 10 दिन बाद बकरीद का त्यौहार मनाया जाता है.Also Read - Eid Ul Fitr: कोरोना महामारी के बीच ईद-उल-फितर की नमाज, कहीं नियम मानें तो कहीं उड़ाई धज्जियां

Also Read - Aadhaar PVC Card: जानिए-UIDAI ने एक ही मोबाइल नंबर से पूरे परिवार के लिए क्यों शुरू की आधार कार्ड ऑर्डर करने की ऑनलाइन सुविधा

चांद को लेकर थी असमंजस की स्थिति Also Read - नेशनल कॉन्फ्रेंस का दावा- फारूक अब्दुल्ला को नमाज पढ़ने के लिए घर से बाहर जाने से रोका गया

मुस्लिमों का खास त्यौहार ईद-उल-अजहा यानी बकरीद पूरे देश में 22 अगस्त को ही मनाई जाएगी. इमरात-ए-शरिया-हिंद सहित कई कमेटियों ने चांद के आधार पर 22 अगस्त को बकरीद मनाने का ऐलान किया, लेकिन अन्य शीर्ष कमेटियों ने इसे मानने से इनकार करते हुए 23 अगस्त को बकरीद मनाए जाने ऐलान कर दिया था. इसके बाद दिल्ली सहित कुछ जगहों पर बकरीद की छुट्टी 22 की बजाय 23 अगस्त को कर दी गई थी.

बैठकों के बाद चांद देखे जाने पर लगी मुहर

पशोपेश हुई क्योंकि एक पक्ष का मानना था कि चांद 12 अगस्त को नहीं दिखा, इसलिए 23 अगस्त को बकरीद मनाने की बात कही जा रही थी. जबकि एक पक्ष का कहना था कि 12 अगस्त को चांद दिख गया है. सहमति-असहमति के बीच बैठकें की गईं. देश के अलग-अलग हिस्सों से चांद देखे जाने को लेकर गवाही मंगाई गईं. ये तय हुआ कि दिल्ली या कुछ अन्य जगहों पर बादलों के कारण 12 अगस्त को चांद नहीं दिखा था, लेकिन देश के हिस्सों में चांद देखा गया था. दिल्ली के चांदनी चौक स्थित फतेहपुरी मजिस्द के शाही इमाम मौलाना मुफ्ती मुकर्रम अहमद 12 अगस्त को चांद देखे जाने के हिसाब से 22 अगस्त को ही बकरीद मनाई जाएगी. देश के अन्य जगहों के लोगों ने इसकी पुष्टि की.

ईद के 70 दिनों बाद होती है बकरीद

मौलाना मुहम्मद अफान असदी बताते हैं कि बकरीद इस्लामिक कलेंडर की तारीख को देखे जाने वाले चांद के मुताबिक होती है. इस्लामिक कलेंडर में 12वां महीना धू-अल-हिज्जा होता है. इस महीने की 10 तारीख को बकरीद मनाई जाती है. ये तारीख ईद-उल-फितर (ईद) के 70 दिनों आती है. धू-अल-हिज्जा माह की 1 तारीख को चांद नजर आ जाता है. इसलिए इसके ठीक 10 दिन बाद धू-अल-हिज्जा की दसवीं तारीख को बकरीद होती है. यानी बकरीद जिसे अंग्रेजी कलेंडर में 22 अगस्त को बताया जा रहा है, वो इस्लामिक कलेंडर की धू-अल-हिज्जा माह की 10वीं तारीख होगी.

धर्म और आस्‍था से जुड़ी खबरों को पढ़ने के ल‍िए यहां क्‍ल‍िक करें.