Basant Panchami का त्‍योहार इस बार 10 फरवरी को मनया जाएगा. इस दिन विद्या की देवी मां सरस्‍वती की पूजा का विशेष विधान है. Also Read - Basant Panchami 2020: बसंत पंचमी के 10 विशेष प्रयोग, इनसे मिलता है विद्या-वाणी का वरदान

Also Read - Basant Panchami 2020: जानें क्‍यों 30 जनवरी को मनाई जाएगी बसंत पंचमी, क्‍या है पांचांग भेद, अमलकीर्ति योग

Basant Panchami 2019: जानें कब है बसंत पचंमी, सरस्‍वती पूजा का शुभ मुहूर्त, कैसे करें पूजन… Also Read - Happy Basant Panchami 2020: बसंत पंचमी पर भेजें Whatsapp Messages, Greetings, Photos, Images

ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन देवी सरस्वती पृथ्वी पर प्रकट हुईं थीं. उन्हीं के जन्म के उत्सव पर बसंत पचंमी का त्योहार मनाया जाता है, सरस्वती देवी की पूजा की जाती है.

क्‍यों की जाती है सरस्‍वती पूजा

इस दिन देवी सरस्वती की पूजा इसलिए की जाती है क्योंकि सृष्टि की रचना के बाद सरस्वती देवी ने सभी को वाणी दी थी. ऐसा माना जाता है कि सृष्टि रचियता ब्रह्मा जी ने जीवों और मनुष्यों की रचना की थी, लेकिन इसके बाद भी वह ब्रह्मा जी से संतुष्ट नहीं थीं. क्योंकि पृथ्वी पर हर तरफ उदासी छाई थी.

तब ब्रह्मा जी ने विष्णु भगवान की अनुमति लेकर अपने कमंडल से जल की कुछ बूंदे पृथ्वी पर छिड़की. ब्रह्मा जी के कमंडल से धरती पर गिरने वाली बूंदों से एक प्राकट्य हुआ. यह प्राकट्य चार भुजाओं वाली देवी सरस्वती का था. माता सरस्वती के एक हाथ में वीणा थी, दूसरा हाथ वर मुद्रा में था. इसके अलावा बाकी अन्य हाथों में पुस्तक और माला थी.

विवाह मुहूर्त 2019: इस साल है शादियों का बंपर मुहूर्त, यहां से देखें वो शुभ दिन

ब्रह्मा जी ने चार भुजा वाली देवी सरस्वती से वीणा बजाने का अनुरोध किया. देवी के वीणा बजाने के साथ-साथ संसार के सभी जीव-जन्तुओं को वाणी मिली थी. सरस्वती देवी ने जीवों को वाणी के साथ-साथ विद्या और बुद्धि भी दी. इसलिए बसंत पंचमी के दिन हर घर में सरस्वती की पूजा भी की जाती है.

सरस्‍वती पूजा 2019

मां सरस्‍वती की पूजा करते हुए ये श्‍लोक जरूर पढ़ें-

या कुन्देन्दु-तुषारहार-धवला या शुभ्र-वस्त्रावृता

या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना।

या ब्रह्माच्युत शंकर-प्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता

सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा॥

Ekadashi 2019: देखें एकादशी कैलेंडर, किस महीने किस तारीख को रखा जाएगा कौन सा व्रत…

Basant Panchami Shubh Muhurat

इस साल बसंत पंचमी 9 फरवरी को दोपहर 12.25 बजे से शुरू होगी. अगले दिन 10 फरवरी को दोपहर 2.08 बजे तक रहेगी. पूजा का शुभ मुहूर्त 10 फरवरी को सुबह 07.07 बजे से दोपहर 12.35 बजे तक का है.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.