Basant Panchami 2020: बसंत पंचमी (Basant Panchami) यानी सरस्‍वती पूजा का दिन. इस दिन लोग पीले वस्‍त्र धारण मां सरस्‍वती की पूजा करते हैं.

मां सरस्‍वती को ये दिन अत्‍यंत प्रिय है. इस दिन मां का पूजन करने से वे विद्या का वरदान देती है. बसंत पंचमी पर मां सरस्‍वती के पूजन में आप इन खास मंत्रों एवं आरती को जरूर पढ़ें.

मां सरस्‍वती के खास मंत्र

या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना ।
या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा पूजिता सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा ॥

शारदा शारदाम्भोजवदना वदनाम्बुजे ।
सर्वदा सर्वदास्माकं सन्निधिं सन्निधिं क्रियात् ॥

सरस्वतीं च तां नौमि वागधिष्ठातृदेवताम् ।
देवत्वं प्रतिपद्यन्ते यदनुग्रहतो जना: ॥

शुक्लां ब्रह्मविचारसारपरमामाद्यां जगद्व्यापिनीं ।
वीणापुस्तकधारिणीमभयदां जाड्यान्धकारापहाम् ।
हस्ते स्फाटिकमालिकां च दधतीं पद्मासने संस्थितां
वन्दे ताम् परमेश्वरीं भगवतीं बुद्धिप्रदां शारदाम् ॥

सरस्वति महाभागे विद्ये कमललोचने ।
विद्यारूपे विशालाक्षि विद्यां देहि नमोऽस्तुते ॥

सरस्वति नमौ नित्यं भद्रकाल्यै नमो नम: ।
वेदवेदान्तवेदाङ्गविद्यास्थानेभ्य एव च ॥

Basant Panchami 2020 Panchang: बसंत पंचमी पर पहनें इस रंग के कपड़े, करें ये शुभ काम, देखें पूरे दिन का पांचांग

मां सरस्‍वती की आरती

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।
सद्‍गुण वैभवशालिनी, त्रिभुवन विख्याता ॥ जय. ॥

चंद्रवदनि पद्मासिनी, द्युति मंगलकारी।
सोहे हंस-सवारी, अतुल तेजधारी ॥ जय. ॥

बाएं कर में वीणा, दूजे कर माला।
शीश मुकुट-मणि‍ सोहे, गले मोतियन माला ॥ जय. ॥

देव शरण में आए, उनका उद्धार किया।
पैठि मंथरा दासी, असुर-संहार किया ॥ जय. ॥

वेद-ज्ञान-प्रदायिनी, बुद्ध‍ि-प्रकाश करो।
मोहाज्ञान तिमिर का सत्वर नाश करो ॥ जय. ॥

धूप-दीप-फल-मेवा पूजा स्वीकार करो।
ज्ञानचक्षु दे माता, सब गुण-ज्ञान भरो ॥ जय. ॥

मां सरस्वती की आरती, जो कोई जन गावे।
हितकारी, सुखकारी, ज्ञान-भक्त‍ि पावे ॥ जय. ॥

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।
सद्‍गुण वैभवशालिनी, त्रिभुवन विख्याता ॥ जय. ॥

बसंत पंचमी 2020

बसंत पंचमी का उत्‍सव इस साल 29 जनवरी, बुधवार को मनाया जाएगा. ऐसी मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन देवी सरस्वती पृथ्वी पर प्रकट हुईं थीं. उन्हीं के जन्म के उत्सव पर बसंत पचंमी का त्योहार मनाया जाता है.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.