Bhadrapada Purnima 2021 Date: हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्र माह में आने वाली पूर्णिमा को भाद्रपद पूर्णिमा कहते हैं. पूर्णिमा की तिथि का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है. भाद्रपद पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु के सत्यनारायण रूप की पूजा की जाती हैAlso Read - Today’s Panchang, September 20, 2021: आज से शुरू हो रहा है पितृ पक्ष, जानें शुभ और अशुभ समय, पढ़ें पंचांग

भाद्रपद पूर्णिमा समय (Bhadrapada Purnima Timings)

भाद्रपद, शुक्ल पूर्णिमा
प्रारम्भ – 05:28 ए एम, सितम्बर 20
समाप्त – 05:24 ए एम, सितम्बर 21

भाद्रपद पूर्णिमा व्रत पूजा विधि (Bhadrapada Purnima Puja Vidhi)

पूर्णिमा के दिन ब्रहम मुहूर्त में उठकर स्नादि से निवृत होकर व्रत का संकल्प लें. इसके बाद विधि विधान से भगवान सत्यनारायण की पूजा करें और उन्हें नैवेद्य व फल-फूल अर्पित करें. पूजन के बाद भगवान सत्यनारायण की कथा सुनेंनी. इसके बाद पंचामृत और चूरमे का प्रसाद वितरित करें. इस दिन किसी जरुरतमंद व्यक्ति या ब्राह्मण को दान अवश्य करें.

भाद्रपद पूर्णिमा का महत्व (Bhadrapada Purnima Significance)

पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है. इस दिन सत्यनारायण की पूजा करने से सभी इच्छाएं पूर्ण होती है. पूर्णिमा का व्रत रखने से घर में सुख-समृद्धि में वृद्धि होती है. इस दिन पवित्र नदी में स्नान कर दान करने का भी विशेष महत्व है.