Budh Pradosh Vrat 2021 July: प्रदोष व्रत पर भगवान शिव का पूजन किया जाता है. ये व्रत रखने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है. इस व्रत को बेहद फलदायी माना गया है. इस व्रत को रखने से भगवान शिव के साथ मां पार्वती का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है.Also Read - Budh Pradosh Vrat 2021: बुध प्रदोष व्रत पर जानें पूजा का शुभ मुहूर्त, इस प्रदोष का महत्व, कैसे करें महादेव का पूजन, भगवान शिव के इन मंत्रों का जप करें

बुध प्रदोष व्रत
जुलाई माह में प्रदोष व्रत 07 जुलाई, बुधवार को है. बुधवार को होने के कारण ये बुध प्रदोष व्रत है. Also Read - Kab Hai Pradosh Vrat 2021: आज प्रदोष व्रत, इस शुभ मुहूर्त पर करें भगवान शिव की पूजा

बुध प्रदोष व्रत का महत्व
भगवान शिव को त्रयोदशी तिथि अत्यंत प्रिय है. इस दिन का प्रदोष काल और भी विशेष होता है. जो लोग इस दिन व्रत रखते हैं और प्रदोष काल में शिव-पार्वती जी का पूजन करते हैं, उनके समस्त पाप नष्ट हो जाते हैं. दुख दूर होते हैं. अक्षय सुख की प्राप्ति होती है. जीवन में सुख-समृद्धि आती है. दुश्मनों का अंत हो जाता है. बुध प्रदोष व्रत रखने से नौकरी में मनचाही सफलता मिलती है. Also Read - Bhaum Pradosh Vrat 2021 June: आज भौम प्रदोष व्रत, जानें महत्व, शुभ मुहूर्त, व्रत कथा, पूजन विधि

बुध प्रदोष व्रत शुभ मुहूर्त
प्रदोष व्रत में भगवान शिव की पूजा प्रदोष काल में की जाती है. पूजा शाम के समय सूर्यास्त से 45 मिनट पूर्व और सूर्यास्त के 45 मिनट बाद तक की जाती है. बुधवार की शाम 7:23 बजे से रात 9:24 बजे तक प्रदोष काल का शुभ समय रहेगा.

भगवान शिव के मंत्र

  1. ऊं नम: शिवाय
  2. ऊं सद्योजाताय नम:
  3. ऊं वामदेवाय नम:
  4. ऊं अघोराय नम:
  5. ऊं ईशानाय नम:
  6. ऊं तत्पुरुषाय नम: