चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri 2019) में मां की विशेष पूजा-अर्चना का विधान है. पर पूजा आरंभ करने से पहले कलश या घट स्‍थापना की जाती है.

Chaitra Navratri 2019 : नवरात्रि में इन रंगों से चमकेगी किस्‍मत, जानें किस देवी को पसंद है कौन सा रंग…

इसके कई नियम हैं. अगर इन नियमों का पालन किया जाए तो मां बेहद प्रसन्‍न रहती हैं.

जानें क्‍या है नियम

– लकड़ी की चौकी लें. गंगाजल से पवित्र करें. साफ कपड़े से पोंछें. उस पर लाल कपड़ा बिछाएं.

Chaitra Navratri 2019 : नवरात्रि में गृहस्‍थों को ऐसे करनी चाहिए मां की पूजा, ध्‍यान रहे ये नियम भंग ना हों…

– अब तांबे, चांदी या मिट्टी का कलश लें. इसे दाईं ओर रखें. चौकी पर मां दुर्गा की मूर्ति या फोटो रखें. इसे नई, लाल रंग की चुनरी चढ़ाएं.

– एक वेदी पर जौ बोकर मां की तस्‍वीर के किनारे रख दें. नारियल पर स्‍वास्तिक बनाकर पूजा स्‍थान पर रखें या कलश के ऊपर भी रख सकते हैं.

– मां के आगे देसी घी का दीपक जलाएं. धूप करें.

– एक बड़े पात्र में वो अखंड ज्‍योति जलाएं जो मां के सामने 9 दिन तक जलेगी.

– मां को तिलक लगाएं. रोली चढ़ाएं. अब उन्‍हें सुहाग का सामान चढ़ाएं. फल, मिठाई आदि अर्पित करें.

– अब मां का मंत्र पढ़ें. दुर्गा चालीसा, सप्तशती का पाठ करें. अंत में मां की आरती करें.

– पूजन के बाद वेदी पर बोए अनाज पर जल छिड़कें.

Happy Chaitra Navratri: भेजें ये Messages, Quotes, Photos, GIFs

– प्रतिदिन मां की पूजा करें. सुबह-शाम जौ वाले पात्र में जल का छिड़काव करें. ध्‍यान रहे अंकुरित जौ शुभ माने जाते हैं. अगर इनमें से किसी अंकुर का रंग सफेद हो तो वो बहुत शुभ होता है.

Navratri Kalash Stahpana Muhurat
चैत्र नवरात्रि में कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त 6 अप्रैल को है. इस दिन रेवती नक्षत्र है. सुबह 06:09 बजे से 10:21 बजे तक कलश स्थापना का श्रेष्ठ मुहुर्त है.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.