चैत्र नवरात्रि आरंभ होने वाले हैं. इससे पहले ये जानिए कि आखिर इस नवरात्रि का महत्‍व क्‍या है.

क्‍या होता है नजर लगना? कैसे बचें बुरी ‘नजर’ से, जानें हर सवाल का जवाब…

Chaitra navratri Significance
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से चैत्र नवरात्र‍ि की शुरुआत होती है. नवरात्र‍ि में मां दुर्गा के नौ रूपों शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चन्द्रघंटा, कूष्माण्डा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी, सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है.

Chaitra navratri Importance
ऐसी मान्‍यता है कि इन नौ दिनों के दौरान मां दुर्गा धरती पर ही रहती हैं. जहां भी उनका पूजन हो वहां वे जरूर जाती हैं. इसलिए इस दौरान विशेष नियमों का पालन कर मां का पूजन करने की बात कही जाती है. ऐसे में बिना सोचे-समझे भी यदि किसी शुभ कार्य की शुरुआत की जाए, तो उस पर मां की कृपा जरूर बरसती है और वह कार्य सफल होता है.

भगवान‍ विष्‍णु को कैसे मिला था सुदर्शन चक्र? ये कथा जानते हैं आप?

Hindu Calender Begins
ऐसी मान्‍यता है कि चैत्र नवरात्र‍ि के पहले दिन मां दुर्गा का जन्‍म हुआ था और मां दुर्गा के कहने पर ही ब्रह्मा जी ने सृष्‍ट‍ि का निर्माण किया था. इसीलिए चैत्र शुक्‍ल प्रतिपदा से हिन्‍दू वर्ष शुरू होता है.

Chaitra Navratri 2019
चैत्र नवरात्रि इस बार 6 अप्रैल, शनिवार से आरंभ होंगी. इस बार पूरे 9 दिन का पर्व मनेगा.

Navratri Kalash Stahpana Muhurat
चैत्र नवरात्रि में कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त 6 अप्रैल को है. इस दिन रेवती नक्षत्र है. सुबह 06:09 बजे से 10:21 बजे तक कलश स्थापना का श्रेष्ठ मुहुर्त है.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.