Chaitra Navratri 2020 7th day: चैत्र नवरात्रि के 7वें दिन मां दुर्गा के सातवें स्वरुप मां कालरात्रि की पूजा की जाती है. मां के पूजन से शत्रुओं का नाश होता है. Also Read - Navratri 2020 Kanya Pujan: आज अष्टमी-नवमी, इस शुभ मुहूर्त पर करें कन्या पूजन, ये है पूजा की विधि

मां कालरात्रि का स्वरूप

मां कालरात्रि का स्वरुप रात की कालिमा की तरह है. मां के बाल बिखरे और गले में माला रहती है. मां की चार भुजाएं हैं, जिनसे वे दानव का वध करती हैं. उनकी सांस से गर्म अग्नि की ज्वाला निकलती है. माँ की सवारी गधा है. मां की भक्ति से दुष्टों का नाश होता है और ग्रह बाधाएं दूर हो जाती हैं. Also Read - Navratri 2020: शीघ्र विवाह और धन प्राप्ति के लिए माता दुर्गा की पान के पत्तों से करें पूजा, मनोकामनाएं होंगी पूरी

पूजन विधि

मां कालरात्र‍ि की पूजा के लिए सबसे पहले दीपक और धूप जलाएं. फिर मां को लाल फूल चढ़ाएं. इसके बाद बेसन के लड्डू और केले का भोग लगाएं और मां को लाल चुनरी चढ़ाएं. कहते हैं मां कालरात्र‍ि को गुड़ से बने पकवान यदि चढ़ाया जाए तो मां जल्‍दी प्रसन्‍न होती हैं. यही नहीं मां को नारियल का लड्डू चढ़ाने और प्रसाद के रूप में बांटने से मां खुश होती हैं. इसलिए कालरात्र‍ि माता को गुड़ का कोई भी एक पकवान और नारियल का लड्डू जरूर चढ़ाएं. मां को पीला झंडा चढ़ाएं और उसे अपनी छत पर लगा दें. Also Read - Navratri 2020 Sandhi Puja: क्या होती है संधि पूजा? जानें शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

मंत्र

एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता।
लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी॥
वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टकभूषणा। वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयंकरी॥

उपाय

धूप और दीप जलाकर मां को लाल चुनरी चढ़ाएं और फूल, फल व सभी प्रसाद चढ़ा दें. इसके बाद मां को लाल तिकोना झंडा अर्पित करें और उसे अपने छत पर फहरा दें. यदि आप दुश्‍मनों पर विजय हासिल करना चाहते हैं तो आज माता को चांदी से बना त्र‍िशूल चढ़ाएं और उसे अपने पास रख लें. ऐसा करने के बाद आपको अपने शत्रुओं से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जाएगा.