Chaitra Navratri 2020: चैत्र नवरात्रि मां दुर्गा को अत्यंत प्रिय है. इन दिनों में मां के पूजन का विशेष फल मिलता है. चूंकि इन दिनों में मां धरती पर होती हैं, इसलिए वे अपने भक्तों की हर मनोकामना को पूरा करती हैं. Also Read - Navratri 2020 Kanya Pujan: आज अष्टमी-नवमी, इस शुभ मुहूर्त पर करें कन्या पूजन, ये है पूजा की विधि

चैत्र माह में आने वाली नवरात्रि पर मां दुर्गा के पूजन के लिए इन सामग्री की आवश्यकता होती है. Also Read - Navratri 2020: शीघ्र विवाह और धन प्राप्ति के लिए माता दुर्गा की पान के पत्तों से करें पूजा, मनोकामनाएं होंगी पूरी

  Also Read - Navratri 2020 Sandhi Puja: क्या होती है संधि पूजा? जानें शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

देखें लिस्ट-

 

– मां दुर्गा की फोटो या मूर्ति.

– चौकी पर बिछाने के लिए लाल या पीला कपड़ा.

– लाल चुनरी.

– दुर्गासप्‍तशती, , दुर्गा चालीसा व आरती की किताब.

– कलश. आम के पत्‍ते.

– ताजा, धुले हुए आम के पत्‍तों के साथ फूल और माला.

– जटा वाला नारियल.

– पान, सुपारी, इलायची, लौंग, कपूर, रोली, सिंदूर, मौली (कलावा), चावल.

–हवन कुंड, आम की लकड़ी, हवन कुंड पर लगाने के लिए रोली या सिंदूर, काले तिल, चावल, जौ (जवा), धूप, चीनी, पांच मेवा, घी, लोबान, गुगल, लौंग का जौड़ा, कमल गट्टा, सुपारी, कपूर, हवन में चढ़ाने के लिए प्रसाद की मिठाई और नवमी को हलवा-पूरी और आचमन के लिए शुद्ध जल.

 

चैत्र नवरात्र‍ि के पहले दिन मां दुर्गा का जन्‍म हुआ था और मां दुर्गा के कहने पर ही ब्रह्मा जी ने सृष्‍ट‍ि का निर्माण किया था. इसीलिए चैत्र शुक्‍ल प्रतिपदा से हिन्‍दू वर्ष शुरू होता है. इस साल नवरात्रि 25 मार्च से आंरभ होगी. 2 अप्रैल को राम नवमी तक रहेगी.

चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से चैत्र नवरात्र‍ि की शुरुआत होती है. नवरात्र‍ि में मां दुर्गा के नौ रूपों शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चन्द्रघंटा, कूष्माण्डा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी, सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है.