Lunar Eclipse 2019: 16 जुलाई, मंगलवार को गुरु पूर्णिमा व चंद्र ग्रहण है. ये ग्रहण भारत में बिल्‍कुल साफ दिखाई देगा. इससे ज्‍योतिषीय नजरिए से इस ग्रहण का असर माना जाएगा.

चंद्र ग्रहण समय
16 फरवरी को रात 1:30 बजे से चंद्रग्रहण है. सुबह 4:30 बजे तक ये ग्रहण रहेगा.

क्‍या करें सूतक से पहले
पंडित कहते हैं कि सूतक लगने से पहले घर में पूरे दिन की भोजन सामग्री तैयार कर लें. फिर सभी में तुलसी पत्‍ता डाल दें. दूध-दही में भी तुलसी पत्‍ता डालना चाहिए. सूतक के दौरान भगवान के मंत्रों का जाप करें.

क्‍या ना करें गर्भवती महिलाएं
ग्रहण काल और उससे पहले सूतक के दौरान गर्भवती स्‍त्रियों को कई तरह के काम नहीं करने चाहिए. जैसे इस समय में कुछ चाकू से काटना नहीं चाहिए. इसके अलावा सिलाई, बुनाई का काम नहीं करना चाहिए. ऐसा कहा जाता है कि ग्रहण का असर हर राशि पर पड़ता है. पर गर्भवती स्त्री और बच्चे के लिए चंद्र ग्रहण का प्रभाव 108 दिनों तक रहता है. गर्भवती महिला को ग्रहण काल में बिना देव मूर्ति स्पर्श किए जप करना चाहिए. ये भी बताया गया है कि गर्भवती स्त्री को ग्रहण के समय अपनी सुरक्षा करनी चाहिए. घर की दहलीज पार नहीं करनी चाहिए.

सूतक का समय
शास्त्रों के अनुसार चंद्रग्रहण का सूतक नौ घंटे पहले लगता है. इस नियम के अनुसार सूतक का समय 16 जुलाई, मंगलवार को शाम 4:25 बजे से आरंभ हो जाएगा.

भारत में कब दिखेगा ग्रहण
चंद्र ग्रहण पूरे भारत में रात 1 बजकर 31 मिनट से देखा जा सकेगा. पूरे समय ग्रहण भारत में दृश्‍यमान होगा. गुरु पूर्णिमा और चंद्रग्रहण एक साथ होने की वजह से गुरु पूजा भी सूतक लगने से पहले कर लेना ठीक होगा.