Chandra Grahan 2020: साल 2020 खत्म होने को है. जल्द ही इस साल का अंतिम चंद्र ग्रहण लगेगा. ये ग्रहण भारत में दिखाई देगा.Also Read - Chandra Grahan 2021: चंद्र ग्रहण से चमकेगी इन 5 राशियों की किस्मत, नौकरी-व्यवसाय में तरक्की, मालामाल बनने के योग

Chandra Grahan 2020 Date
साल का आखिरी चंद्रग्रहण 30 नवंबर 2020, सोमवार को लगेगा. यह उपच्छाया ग्रहण होगा. Also Read - Chandra Grahan 2021: लगने जा रहा है साल का पहला चंद्र ग्रहण, जानें ग्रहण के समय में क्या करें-क्या नहीं, Note कर लें

Chandra Grahan 2020 Timings
ग्रहण का प्रारम्भ 30 नवंबर दोपहर 1:04 बजे होगा. शाम 5:22 बजे ग्रहण खत्म होगा. Also Read - Chandra Grahan Timing: देश के इन हिस्सों में दिखेगा चंद्रग्रहण, जानें किस टाइम में कहां आएगा नजर; सभी जानकारी है यहां...

क्या है उपच्छाया ग्रहण
जो चन्द्रग्रहण नग्न आँखों से देखे नहीं जाते उनका धार्मिक महत्व नहीं होता है. सिर्फ उपच्छाया वाले चन्द्रग्रहण नग्न आंखों से देखे नहीं जाते इसीलिए उनका पञ्चाङ्ग में समावेश नहीं होता है और कोई भी ग्रहण से सम्बन्धित कर्मकाण्ड नहीं किया जाता है. केवल प्रच्छाया वाले चन्द्रग्रहण, जो कि नग्न आंखों से देखे जाते हैं, इनका धार्मिक कर्मकांड़ों में विशेष महत्व होता है.

सूतक काल
चंद्र ग्रहण से पहले के समय को सूतक काल कहा जाता है. इसलिए ग्रहण लगने से पहले किसी भी तरह के शुभ कार्यों को रोक दिया है. सूतक काल ग्रहण लगने से 9 घंटे पहले शुरू होता और ग्रहण खत्म होने के ही साथ खत्म हो जाता है. चूंकि ये ग्रहण आंखों से दिखाई नहीं देगा, इसलिए इसका सूतक काल भी मान्य नहीं होगा.

ग्रहण का कारण 

वैज्ञानिक दृष्टि से ये एक खगोलीय घटना है. चंद्र ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्छाया में आ जाता है. ज्योतिषियों की अनुसार, राहु-केतु समय-समय पर सूर्य और चंद्रमा पर ग्रहण लगाते हैं. इनका 12 राशियों पर सीधे तौर पर असर होता है. ग्रहण पूरा होने के बाद दान व स्नान करने की परंपरा है.