Chandra Grahan July 2018: आषाढ़ मास की पूर्ण‍िमा का हर साल गुरु पूर्ण‍िमा के रूप में मनाया जाता है. इस बार गुरु पूर्ण‍िमा 27 जुलाई 2018 को है और इसके साथ ही चंद्रग्रहण भी लग रहा है. यह चंद्रग्रहण सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण है. भारत में इसे स्‍पष्‍ट रूप से देखा जा सकेगा. चंद्रग्रहण का समय और सूतक का समय जानने के लि‍ए यहां क्‍ल‍िक करें.

27 जुलाई को लगने वाले चंद्रग्रहण को ज्‍योत‍िष बेहद व‍िशेष मान रहे हैं. ज्‍योत‍िषाचार्य पंड‍ित व‍िनोद म‍िश्र के अनुसार इस बार बेहद खास संयोग बनने के कारण चंद्रग्रहण व‍िशेष होगा. यह सदी का सबसे लंबी चंद्रग्रहण होगा.

Lunar Eclipse July 2018: चंद्रग्रहण 27 को, जानें भारत में किस समय और कहां दिखेगा पूर्ण ग्रहण

गुरु पूर्ण‍िमा के साथ चंद्रग्रहण का आना:

गुरु पूर्णि‍मा के द‍िन चंद्रग्रहण का लगना खास संयोग है. हालांक‍ि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है, 18 साल पहले भी 16 जुलाई 2000 को चंद्रग्रहण गुरु पूर्ण‍िमा के द‍िन लगा था.

प्रभावशाली और लंबा चंद्रग्रहण:

रात में और दोपहर के समय लगने वाला चंद्रग्रहण सबसे प्रभावशाली होता है. यह लंबा भी होता है. इस बार लगने वाला चंद्रग्रहण करीब 4 घंटे तक रहेगा. ऐसा 150 वर्षों में पहली बार हो रहा है.

यह भी पढ़ें: Lunar Eclipse 2018: आ रहा है 21वीं सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण, 4 राशियों वाले रहें बचकर

सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण:

27 जुलाई को लगने वाला ग्रहण सदी का सबसे लंबा ग्रहण होगा. इसका कुल समय 3:54:33 घंटे का होगा. 105 साल पहले ऐसा चंद्रग्रहण लगा था. साल 2018 में दूसरी बार ब्‍लडमून का नजारा द‍िखेगा इसलि‍ए भी यह बेहद खास है.

प्राकृत‍िक आपदा का डर:

इस बार चंद्रग्रहण के वक्‍त पृथ्‍वी मंगल ग्रह के बेहद नजदीक होगी. इसके प्रभाव से प्राकृत‍िक आपदाओं का खतरा रहेगा.

त्रिग्रही योग:

इस बार चंद्रग्रहण के वक्‍त मंगल और केतु के बीच त्रिग्रही योग बन रहा है. केतु और चंद्रमा एक साथ मकर राशि में हैं, इसलि‍ए ग्रहण योग बन रहा है.

सावन और धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.