Chhath Puja 2019 पर सूप, ईख, ठेकुआ, मौसमी फलों का विशेष महत्‍व है. इनके बिना छठ पूजन अधूरा माना जाता है.

क्‍यों खाते हैं कद्दू
नहाए-खाए के दिन खासतौर पर कद्दू की सब्जी बनायी जाती है. व्रत रखने वाले इसे ग्रहण करते हैं. धार्मिक मान्‍यताओं के अलावा इसे खाने के कई फायदे हैं. कद्दू में एंटी-ऑक्सीडेंट्स पर्याप्त मात्रा में होते हैं, जिससे इम्यून सिस्टम मजबूत होता है और व्रती बीमारियों से बचे रहते हैं.

Chhath Puja 2019 Significance: सूर्य की बहन हैं छठी मैया, नवरात्रि में भी होती है पूजा, देती हैं ये वरदान…

इसके अलावा, कद्दू में डाइटरी फाइबर भरपूर मात्रा में होता है. इसके सेवन से पेट से जुड़ी समस्याएं दूर हो जाती हैं.

जानें इनका महत्‍व

सूप- अर्ध्य में नए बांस से बने सूप व डाला का प्रयोग किया जाता है. सूप से वंश में वृद्धि होती है और वंश की रक्षा भी होती है.

ईख- ईख को आरोग्यता का द्दोतक माना गया है.

ठेकुआ- ठेकुआ समृद्धि का द्दोतक है.

मौसमी फल- मौसम के फलों को फल प्राप्ति का द्दोतक माना गया है.

Chhath Puja 2019 Rules: छठ पूजा के 4 दिन, इन 10 नियमों का पालन जरूरी…

छठ पर्व 2019

यह पर्व चार दिन का है. इसमें साफ-सफाई का खास ध्यान रखा जाता है. इस बार छठ का महापर्व 31 अक्टूबर से शुरू हो रहा है और 3 नवम्बर को समाप्त होगा.

नहाय-खाय 2019

छठ महापर्व की शुरुआत नहाय-खाय से होती है. इस बार ये 31 अक्‍टूबर को है. मान्यता है कि इस दिन व्रती स्नान आदि कर नए वस्त्र धारण करते हैं. इसके अलावा लोग शाकाहारी भोजन गृहण करते हैं. जब वृत रखने वाला भोजन करता है उसके बाद ही परिवार के अन्य सदस्य भोजन करते हैं.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.