Dev Diwali 2019 का त्‍योहार काफी धूमधाम से मनाया जाता है. इस दिवाली को देवताओं की दिवाली कहा जाता है. इस साल ये पर्व 12 नवंबर, मंगलवार को है.

पारंपरिक रूप से वाराणसी में मनाया जाने वाला ‘देव दीपावली’ पर्व इस बार लखनऊ में भी धूमधाम से मनाया जाएगा. 12 नवंबर को गोमती नदी के तट पर छह लाख दीयों (मिट्टी के दीये) को जलाने की योजना है.

मनकामेश्वर मंदिर के महंत दिव्यगिरी ने कहा है कि इस अवसर पर गोमती नदी के 11 प्लेटफॉर्मों से पारंपरिक गोमती ‘आरती’ का आयोजन होगा.

Guru Nanak Jayanti 2019: गुरु नानक से जुड़ी 10 खास बातें, ऐसा था परिवार, बेटे नहीं इस शिष्‍य को बनाया उत्‍तराधिकारी…

उन्होंने कहा, “जो छह लाख दीये जलाए जाएंगे, उनमें से तीन लाख भक्तों द्वारा दिए जाएंगे और बाकी के दीये स्कूली बच्चों और कॉलेज के विद्यार्थियों द्वारा दिए जाएंगे. प्रत्येक व्यक्ति को इस अवसर पर 25 दिए जलाने होंगे.”

हालांकि दिव्यगिरी ने कहा है कि समारोह का आयोजन किसी भी तरह के रिकॉर्ड बनाने के मद्देनजर नहीं किया जा रहा है. झूलेलाल घाट पर देव दीपावली मनाई जाएगी और कुड़िया घाट पर आरती की जाएगी.

इस बीच, वाराणासी में भी 12 नवंबर को देव दीपावली मनाए जाने की तैयारियां जोरों पर हैं, इस मौके पर यहां के ऐतिहासिक घाटों को 21 लाख दियों से सुसज्जित किया जाएगा.
(एजेंसी से इनपुट)

धर्म से जुड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.