Dhanteras 2018: दिवाली से ठीक दो दिन पूर्व धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है. दरअसल, ऐसी मान्यता है कि धनतेरस के दिन यानी धनत्रयोदशी के दिन भगवान धनवंतरी का जन्म हुआ था. तभी से धनत्रयोदशी के दिन को धनतेरस के रूप में मनाया जाने लगा और इस दिन को धन तेरस के रूप में पूजा जाता है. इस बार धनतेरस 5 नवंबर को है. Also Read - Dhanteras 2019: धनतेरस पर्व पर जानें भगवान धन्‍वंतरि के हाथ में अमृत कलश की कथा, क्‍यों सोना खरीदना सबसे उत्‍तम?

Also Read - Dhanteras 2019: लक्ष्‍मी-कुबेर-धन्‍वंतरि-यमराज पूजा, घर लाएं लक्ष्‍मी-गणेश, शुभ मुहूर्त, मंत्र, पूजन विधि, क्‍या खरीदें क्‍या नहीं...

इस दिन खरीदारी करना शुभ माना जाता है. खासतौर से लोग इस दिन बर्तन और गहनों की खरीदारी करते हैं. इस बार धनतेरस के दिन पूजा करने के लिए जातकों को सिर्फ 1 घंटा 55 मिनट का वक्त मिलेगा. Also Read - Dhanteras 2019 Wishes In Hindi: धनतेरस पर हिंदी में भेजें बधाई संदेश, देखें खास मैसेज...

Happy Karwa Chauth 2018 Wishes: करवा चौथ पर भेजें अपने प्रिय को प्यार का संदेश

धनतेरस 2018 का मुहूर्त-

धनतेरस पूजा का शुभ मुहूर्त: 5 नवंबर को शाम 6.05 बजे से 8.01 बजे

शुभ मुहूर्त की अवधि: 1 घंटा 55 मिनट

प्रदोष काल: शाम 5.29 से रात 8.07 बजे तक

वृषभ काल: शाम 6:05 बजे से रात 8:01 बजे तक

त्रयोदशी तिथि आरंभ: 5 नवंबर को सुबह 01:24 बजे

त्रयोदशी तिथि खत्म: 5 नवंबर को रात्रि 11.46 बजे

धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.