Dhanteras 2018: धनतेरस के मौके पर खरीदारी करना शुभ माना जाता है और इस मौके पर हर व्यक्ति जरूर खरीदारी करता है. छोटा या बड़ा अपनी सामर्थ्य के अनुसार लोग इस दिन खरीदारी जरूर करते हैं. लेकिन धनतेरस के दिन सोच समझकर खरीदारी करनी चाहिए. इस दिन शुभ मुहूर्त में मुहूर्त के अनुसार खरीदारी की जाती है और शुभ मुहूर्त में की गई सही वस्तु की खरीदारी आपके धन में 13 गुणा वृद्धि कर सकती है.

धनतेरस के दिन करें इन वस्तुओं की खरीदारी:

1. पान का पत्ता: धनतेरस के दिन पूजा में इस्तेमाल करने के लिए पान का पत्ता जरूर खरीदें. दरअसल, ऐसी मान्यता है कि पान के पत्ते में देवी देवताओं का वास होता है. ऐसे में इस दिन पान के पत्ते की खरीदारी करना शुभ होता है.

2. सुपारी : धनतेरस के दिन सुपारी की खरीदारी भी शुभ मानी जाती है. इस द‍िन पूजा में इस्‍तेमाल की गई सुपारी को अपनी त‍िजोरी में रखा जाता है. इससे धन में वृद्ध‍ि होती है.

Dhanteras 2018: जान‍िये, धनतेरस के द‍िन क‍िस मुहूर्त में खरीदारी करने से मां लक्ष्‍मी होंगी प्रसन्‍न, करेंगी धन वर्षा

3. कपूर: इस दिन कपूर जरूर खरीदें. कपूर की खुशबू और उससे निकलने वाली ऊर्जा से घर की नकारत्‍मकता समाप्‍त होती है. यही नहीं कपूर मन को शांत भी करता है. मां लक्ष्‍मी, भगवान कुबेर देव और भगवान धनवंतरि की पूजा में इसे विशेष रूप से इस्‍तेमाल किया जाता है.

4. खील और बताशे: धनतेरस के द‍िन खील और बताशे जरूर खरीदें. खील और बताशे मां लक्ष्‍मी को अत‍ि प्र‍िय है. इस द‍िन खील बताशे जरूर चढ़ाएं. अगले द‍िन खील की एक पोटली बनाकर अपने भंडार गृह में रख दें. ऐसी मान्‍यता है क‍ि घर का भंडार कभी खत्‍म नहीं होता और मां अन्‍नपूर्णा की कृपा बनी रहती है.

Dhanteras 2018: जानिये कब है धनतेरस, क्या है पूजन का सबसे शुभ मुहूर्त

5. धन‍िया: धनतेरस के द‍िन मां लक्ष्‍मी को धन‍िया भी चढ़ाया जाता है. इस द‍िन चढ़ाए गए ध‍न‍िया को द‍िवाली के अगले द‍िन बोया जाता है. कहा जाता है क‍ि धन‍िए का पौधा अगर अच्‍छा और ख‍िला हुआ न‍िकला है तो इसका अर्थ यह होता है क‍ि पूरा साल आर्थ‍िक रूप से अच्‍छा रहने वाला है.

6. दीया: धनतेरस और द‍िवाली को रोशनी और प्रकाश का त्‍योहार कहते हैं. इस द‍िन दीप खरीदना और दीप दान करना शुभ माना जाता है. धनतेरस के द‍ि‍न मां लक्ष्‍मी के पास एक दीया, मां तुलसी के पास एक, घर की चौखट पर दो और एक यम देव के ल‍िए दीया जलाएं. कहा जाता है क‍ि इससे यमदेव प्रसन्‍न होते हैं और मृत्‍यु का भय नहीं होता.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.