Dhanteras 2018: धनतेरस का त्‍योहार इस बार 5 नवंबर को मनाया जाएगा. कार्त‍िक मास के कृष्‍ण पक्ष की त्रयोदशी यानी कि 13वें दिन धनतेरस का पर्व मनाया जाता है. इस मां लक्ष्‍मी, भगवान गणेश, कुबेर देवता और धन्‍वंतरि भगवान की पूजा की जाती है.

ऐसी मान्‍यता है कि इस दिन भगवान धन्‍वंतरि भगवान का जन्‍म हुआ था, इसलिए इस दिन बड़े उत्‍साह के साथ धनतेरस का त्‍योहार मनाया जाता है.

धनतेरस से संबंधित कई प्रचलित कथाएं हैं. इसमें से एक कहानी ऐसी भी है जिसमें यह उल्‍लेख है कि भगवान विष्‍णु ने मां लक्ष्‍मी को शाप दिया था और इसी कारण धनतेरस का त्‍योहार मनाया जाता है. भगवान विष्‍णु ने मां लक्ष्‍मी को क्‍या शाप दिया और क्‍यों पढ़ें पूरी कहानी और जानें…

Dhanteras 2018: जान‍िये, धनतेरस के द‍िन क‍िस मुहूर्त में खरीदारी करने से मां लक्ष्‍मी होंगी प्रसन्‍न, करेंगी धन वर्षा

एक बार भगवान विष्‍णु के मन में विचार आया कि उन्‍हें मृत्‍यु लोक का एक बार भ्रमण करना चाहिए. यह विचार आते ही उन्‍होंने मां लक्ष्‍मी को बताया. मां लक्ष्‍मी ने कहा क्‍यों ना मैं भी आपके साथ चलूं.

इस पर भगवान विष्‍णु ने कहा कि इसमें मुझे कोई आपत्‍त‍ि नहीं है, लेकिन वहां आप मेरे कहे अनुसार ही चलेंगी. मां लक्ष्‍मी ने कहा, ठीक है. मैं आपके कहे अनुसार ही चलूंगी.

भगवान विष्‍णु और मां लक्ष्‍मी दोनों मृत्‍युलोक यानी कि धरती पर पहुंच गए. कुछ दूर जाने के बाद भगवान विष्‍णु ने मां लक्ष्‍मी से कहा कि आप कुछ क्षण यहां प्रतिक्षा करें. मैं जब तक लौटकर ना आऊं, आप कहीं नहीं जाइएगा. मां लक्ष्‍मी ने उस वक्‍त तो हां कर दिया, पर कुछ क्षण रुकने के बाद वो भी भगवान विष्‍णु के पीछे चल पड़ीं.

भगवान विष्‍णु दक्ष‍िण दिशा की ओर गए थे, इसलिए मां लक्ष्‍मी भी उसी दिशा की ओर जाने लगीं. तभी रास्‍ते में उन्‍हें पीले-पीले सरसों के लहलहाते खेत दिखे. मां लक्ष्‍मी अति प्रसन्‍न हो गईं और उन्‍होंने सरसों के फूल से अपना खूब श्रृंगार किया.

इसके बाद गन्‍ने के खेत आए, मां लक्ष्‍मी ने गन्‍ने तोड़कर चूसने लगीं. तभी वहां भगवान विष्‍णु आ गए.

उन्‍होंने मां लक्ष्‍मी से कहा कि आपने मेरी आज्ञा का पालन नहीं किया और किसान के खेत में चोरी भी की है, इसलिए आपको श्राप देता हूं कि आपको इस किसान के घर 12 वर्ष रुक कर उसकी सेवा करनी होगी.

Dhanteras 2018: जानिये कब है धनतेरस, क्या है पूजन का सबसे शुभ मुहूर्त

इतना कहने के उपरांत भगवान विष्‍णु क्षीरसागर चले गए. मां लक्ष्‍मी 12 वर्षों तक किसान के घर रुक कर उसकी सेवा करने लगीं और किसान का घर धन धान्‍य से भर गया. 13वें वर्ष जब भगवान विष्‍णु लक्ष्‍मी जी को लेने आए तब किसान ने मां लक्ष्‍मी को विदा करने से मना कर दिया.

भगवान विष्‍णु ने समझाया कि मां लक्ष्‍मी कहीं भी एक जगह रुक नहीं सकतीं. वह चंचला हैं. फिर भी किसान यह मानने को तैयार नहीं था.

तभी मां लक्ष्‍मी को एक युक्‍त‍ि सूझी. उन्‍होंने कहा कि कल तेरस के दिन तुम अपने घर की अच्‍छे से साफ सफाई करो. इसके बाद शाम में घी का दीपक जलाकर मेरी पूजा करो. तांबे के एक कलश में सिक्‍के भरकर मेरे लिए रखना, मैं उसी कलश में निवास करूंगी. ऐसा करने से मैं तुम्‍हारे घर में फिर एक वर्ष के लिए निवास करूंगी.

मां लक्ष्‍मी ने जैसा बताया था, किसान ने ठीक वैसे ही किया. किसान के घर में धन धान्‍य दोबारा लौट आया. वह हर वर्ष तेरस के दिन ऐसे ही पूजन करने लगा और उसके घर में मां लक्ष्‍मी का वास हो गया. इसके बाद से हर साल कार्त‍िक मास के कृष्‍ण पक्ष की तेरस को धनतेरस का त्‍योहार मनाया जाता है.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरों को पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.