Dhanteras 2019 का पर्व दिवाली से दो दिन पहले मनाया जाता है. इस पर्व पर खरीदारी करने का विशेष महत्‍व है.

Dhanteras 2019 Date
इस वर्ष धनतेरस पर्व 25 अक्‍टूबर, शुक्रवार को है.

महत्‍व
धनतेरस का पर्व दिवाली से ठीक दो दिन पूर्व मनाया जाता है. ऐसी मान्यता है कि धनतेरस के दिन यानी धनत्रयोदशी के दिन भगवान धनवंतरी का जन्म हुआ था. तभी से धनत्रयोदशी के दिन को धनतेरस के रूप में मनाया जाने लगा और इस दिन को धनतेरस के रूप में पूजा जाता है. इस दिन खरीदारी करना शुभ माना जाता है. इस दिन की गई खरीदारी से सौ गुना फल प्राप्‍त होता है.

Diwali 2019: दिवाली पर करें ये 10 टोटके, पूरे साल धन वर्षा करेंगी मां लक्ष्‍मी…

त्रयोदिशी तिथि
त्रयोदिशी तिथि आरंभ: रात 7.08 बजे से (25 अक्‍टूबर)
त्रयोदिशी तिथि समाप्‍त: दोपहर 3:46 बजे (26 अक्‍टूबर)

प्रदोष काल: शाम 6:06 बजे से रात 8:36 बजे तक (25 अक्‍टूबर)
वृषभ काल: रात 7:23 बजे से 9:23 बजे तक (25 अक्‍टूबर)

पूजा मुहूर्त
रात 7:23 बजे से 8:36 बजे तक.
कुल समय: 1 घंटा 13 मिनट

100 साल बाद महासंयोग
इस बार धनतेरस पर महासंयोग बन रहा है. भगवान धनवंतरि की जयंती के दिन यानी धनतेरस के दिन ही शुक्रवार है, जो महालक्ष्‍मी का दिन है, साथ ही शुक्र प्रदोष व्रत भी है. शुक्र प्रदोष और धन त्रयोदशी का महासंयोग है. इस दिन ब्रह्म व सिद्धि योग बन रहा है. ऐसा महासंयोग 100 साल बाद बन रहा है. इस दिन जो भी शुभ कार्य या खरीदी की जाएगी वह हजारों गुना फल देगी.

धर्म से जुड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए धर्म पर क्लिक करें.