Dhanu Sankranti 2019: ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, सूर्य का किसी राशि में प्रवेश संक्रांति कहलाता है और जब सूर्य धनु राशि में प्रवेश करते हैं तो इसे धनु संक्रांति कहा जाता है. पौष मास की संक्रांति को धनु संक्रांति कहते हैं. जो कि इस बार 16 दिसंबर को पड़ रही है. कहते हैं कि इस दिन सूर्य वृश्चिक राशि से निकलकर धनु राशि में प्रवेश करते हैं. धनु संक्रांति को हेमंत ऋतु शुरू होने पर मनाया जाता है. दक्षिणी भूटान और नेपाल में इस दिन जंगली आलू जिसे तारुल के नाम से जाना जाता है, उसे खाने का रिवाज है. जिस दिन से ऋतु की शुरुआत होती है उसकी पहली तारीख को लोग इस संक्रांति को बड़े ही धूम-धाम से मनाते हैं.

खरमास 2019: कब लग रहा खरमास और कब होगा खत्म, इन दिनों भूलकर भी न करें ये काम

धनु संक्रांति का महत्व
हिन्दू धर्म के अनुसार, धनु संक्रांति के दिन सूर्यदेव की पूजा करने का बहुत महत्व है. इस दिन सूर्यदेव की पूजा करना बहुत शुभ माना जाता है. इस दिन पवित्र नदियों के जल में स्नान करने से मनुष्यों के द्वारा किये गये बुरे कर्म या पापों से मुक्ति मिलती है. साथ ही इस दिन पूजा करने से आपका भविष्य सूर्य की भांति चमक उठेगा.

Festivals List: यहां पढ़िए दिसंबर महीने में पड़ने वाले सभी त्यौहारों की पूरी लिस्ट

धनु संक्रांति का शुभ मुहूर्त
धनु संक्रान्ति सोमवार, दिसम्बर 16, 2019 को
धनु संक्रान्ति पुण्य का- 03:43 PM से 05:44 PM
अवधि – 02 घण्टे 01 मिनट
धनु संक्रान्ति महा पुण्य काल – 03:43 PM से 05:30 PM
अवधि – 01 घण्टा 47 मिनट्स

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें