नई दिल्‍ली: हर महीने में शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को दुर्गा अष्टमी मनायी जाती है. इस दिन मां दुर्गा की आराधना की जाती है. दुर्गाष्टमी हर महीने आती है इसलिए इसे मासिक दुर्गाष्टमी कहते हैं. इस दिन व्रत और पूजन का बड़ा ही ख़ास महत्व है. ऐसी मान्यता है कि इस दिन सच्चे दिल और श्रद्धा से जो भी कामना की जाए देवी माता उसे ज़रूर पूरा करती है. अन्य किसी भी पूजा की तरह हिंदू धर्म में मासिक दुर्गाष्टमी को बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है. यूं तो हर महीने की दुर्गाष्टमी का महत्व बताया गया है पर उन सभी में सबसे महत्वपूर्ण ‘महाष्टमी’ होती है जो आश्विन माह के शारदीय नवरात्रि के दौरान आती है.

Ekadashi 2019: देखें एकादशी कैलेंडर, किस महीने किस तारीख को रखा जाएगा कौन सा व्रत…

हर महीने आने वाली अष्टमी को मासिक दुर्गाष्टमी कहते हैं, जबकि सबसे बड़ी दुर्गाष्टमी को महाष्टमी के नाम से जाना जाता है. यहां हम 2019 मासिक दुर्गाष्टमी तारीख बता रहे हैं, जो इस प्रकार से है.

मासिक दुर्गाष्टमी 2019

तारीख दिन पर्व
14 जनवरी 2019 सोमवार मासिक दुर्गाष्टमी
13 फरवरी 2019 बुधवार मासिक दुर्गाष्टमी
14 मार्च 2019 गुरुवार मासिक दुर्गाष्टमी
13 अप्रैल 2019 शनिवार मासिक दुर्गाष्टमी
12 मई 2019 रविवार मासिक दुर्गाष्टमी
10 जून 2019 सोमवार मासिक दुर्गाष्टमी
09 जुलाई 2019 मंगलवार मासिक दुर्गाष्टमी
08 अगस्त 2019 गुरुवार मासिक दुर्गाष्टमी
06 सितंबर 2019 शुक्रवार मासिक दुर्गाष्टमी
06 अक्टूबर 2019 रविवार दुर्गा अष्टमी
04 नवंबर 2019 सोमवार मासिक दुर्गाष्टमी
04 दिसंबर 2019 बुधवार मासिक दुर्गाष्टमी

Vinayak Chaturthi 2019: जानें कब है विनायक चतुर्थी, कैसे करें पूजा व व्रत

पूजा की विधि
दुर्गाष्टमी में माता की पूजा की विधि वैसे तो हर महीने एक दुर्गाष्टमी आती है लेकिन उन सभी में सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण दुर्गा अष्टमी ‘महाष्टमी’ होती है जो नवरात्री में आती है किन्तु माना जाता है कि अगर प्रत्येक माह पूरे विधि विधान से दुर्गाष्टमी पर व्रत और पूजन किया जाए तो मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है. इस दिन सबसे पहले स्नान करके शुद्ध हो जाएं, फिर पूजा के स्थान को गंगाजल डालकर उसकी शुद्धि कर लें. इसके पश्चात लकड़ी के पाट पर लाल वस्त्र बिछाकर उस पर माँ दुर्गा की प्रतिमा या चित्र स्थापित कर लें. फिर माता को अक्षत, सिन्दूर और लाल पुष्प अर्पित करें, फिर प्रसाद के रूप में आप फल और मिठाई चढ़ाएं अब धुप और दीपक जलाएं. दुर्गा चालीसा का पाठ करें और फिर माता की आरती करें. फिर हाथ जोड़कर देवी से प्रार्थना करें माता आपकी इच्छा ज़रूर पूरी करेंगी.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.