Ganesh Visarjan 2018: गणेश चतुर्थी के द‍िन भगवान गणेश को अपने घर धूमधाम से उनके भक्‍त अपने घर लेकर आते हें और अनंत चतुर्दशी के द‍िन उतने ही धूमधाम से उनकी व‍िदाई की जाती है. Also Read - Vinayak Chaturthi December 2019: इस दिन है विनायक चतुर्थी, जानिए महत्व और पूजा विधि

कुछ लोग गणपत‍ि को अपने घर एक द‍िन, 3 द‍िन, 5 द‍िन, 7 द‍िन और 10 द‍िन रखते हैं. लेकिन क‍िसी भी हाल में गणपत‍ि का अनंत चतुर्दशी के द‍िन या उससे पहले व‍िसर्जन हो ही जाना चाह‍िए. Also Read - Vinayak Chaturthi November 2019: इस दिन करें गणेश जी की पूजा, बन जाएंगे सभी बिगड़े काम

Ganesh Visarjan 2018: गणेश विसर्जन 2018 समय, तिथि और शुभ मुहूर्त Also Read - Ganpati Visarjan 2019 Live Streaming: मुंबई में गणपति विसर्जन की धूम, देखें लाइव वीडियो...

इस बार अनंत चतुर्दशी रव‍िवार 23 स‍ितंबर को है, ज‍िस द‍िन गणेश व‍िसर्जन भी होगा.

गणेश व‍िसर्जन का समय:

अनंत चतुर्दशी पर होगा गणेश विसर्जन – 23 सितंबर 2018
प्रातः 8 बजे से 12 बजकर 30 मिनट तक
दोपहर 2 बजे से साढ़े तीन बजे तक
सायंकाल 6 बजकर 30 मिनट से रात्रि 11 बजे तक

गणेश व‍िसर्जन से पहले भगवान गणपत‍ि की वैसे ही पूजा अर्चना होती है, जैसे क‍ि उन 10 द‍िनों के दौरान उनके भक्‍त करते हैं. गणपत‍ि की व‍िध‍ि पूजन करने के बाद और उनका मनपसंद प्रसाद चढ़ाने के बाद उनकी आरती जरूर गाना चाह‍िए.

Ganpati Visarjan 2018: गणपति विसर्जन कैसे करें, जानिये सही विधि

कहा जाता है क‍ि गणपत‍ि आरती के बाद ही गणेश जी की पूजा को संपूर्ण माना जाता है. यहां हम आपको गणेश जी की वो आरती लेकर आए हैं, जो गणपत‍ि को खास पसंद है और इस आरती को करने पर गणपत‍ि जल्‍दी ही प्रसन्‍न हो जाते हैं.

Ganesh Ji Ki Arti : गणेश जी की आरती

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ॥ जय…

एक दंत दयावंत चार भुजा धारी।
माथे सिंदूर सोहे मूसे की सवारी ॥

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया।
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया ॥ जय…

हार चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा।
लड्डुअन का भोग लगे संत करें सेवा ॥

दीनन की लाज रखो, शंभु सुतकारी।
कामना को पूर्ण करो जाऊं बलिहारी॥ जय…

‘सूर’ श्याम शरण आए सफल कीजे सेवा।
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।

माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥ जय…

धर्म और आस्‍था से जुड़ी खबरों को पढ़ने के ल‍िए यहां क्‍ल‍िक करें.