गंगा देश की सबसे बड़ी और जीवंत नदी है. हिन्दू धर्म में गंगा का विशेष महत्व है. यह दुनिया की सबसे पवित्र नदियों में एक है. गंगा में डुबकी लगाते हैं और पूजा करते हैं. यह नदी इतनी पवित्र मानी जाती है कि लोग इसमें डुबकी लगाकर अपने पापों को धो डालते हैं. ऐसी मान्यता है कि भागीरथ नाम के एक भक्त ने अपनी कठिन तपस्या से मां गंगा को धरती पर उतारा. जिस दिन मां गंगा धरती पर उतरीं, उसे ही गंगा दशहरा कहा जाता है. यहां हम आपको देश के ऐसी 5 जगहों के बारे में बता रहे हैं, जहां गंगा दशहरा के मौके पर जरूर जाना चाहिए.Also Read - Ganga Dussehra 2018: जानें, क्यों मनाया जाता है गंगा दशहरा का पर्व, क्या है इसका महत्व और स्नान का शुभ मुहूर्त

1. वाराणसी Also Read - Ganga Dussehra 2018: इस विधि से करें मां गंगा की पूजा, मिलेगा मनचाहा वरदान

varansi-1
वाराणसी में 87 घाट हैं. यह देश का सबसे पवित्र शहर माना जाता है. वाराणसी उत्तर प्रदेश में स्थित है. यह लाखों गंगा और शिव भक्तों का ठिकाना है. यहां गंगा के दर्शन मात्र के लिए लाखों लोग देश और विदेश से आते हैं. इस शहर की गंगा आरती बहुत मशहूर है. आप अगर वाराणसी में हैं तो गंगा आरती जरूर देखें. Also Read - गंगा दशहरा पर लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई आस्‍था की डुबकी, वाराणसी-इलाहाबाद में खासी भीड़

2. हरिद्वार

haridwar
उत्तराखंड में मौजूद हरिद्वार देश की 7 सबसे पवित्र शहरों में एक है. धार्मिक महत्व के अलावा यह शहर पहाड़ों से घिरा हुआ है. यहां गंगा का दर्शन कर आपको पवित्रता का एहसास होगा.

3. ऋषिकेश

rishikesh
इस शहर को इंटरनेशनल योगा कैपिटल कहा जाता है. यहां लोग आमतौर पर एडवेंचर ट्रिप के लिए आते हैं. यह देश की धार्मिक स्थलों में से एक है. शहर में गंगा की मौजूदगी इसे और भी खास बना देती है. यहां आपको गंगा आरती जरूर देखनी चाहिए.

4. गढ़मुक्तेश्वर

garhmukteshwar

अगर आप ऐसी जगह जाना चाहते हैं, जहां भीड़ ना हो और शांति से आप मां गंगा का दर्शन कर सकें और उनकी प्रार्थना कर सकें तो आपको उत्तर प्रदेश स्थित गढ़मुक्तेश्वर जरूर जाना चाहिए. यहां मां गंगा को समर्पित कई मंदिर हैं. गंगा दशहरा पर गढ़मुक्तेश्वर जरूर जाएं.

5. इलाहाबाद

allahabad

इलाहाबाद प्राचीन और ऐतिहासिक महत्व वाला शहर है. यहां विश्व प्रसिद्ध कुंभ मेला भी लगता है, जो 12 साल में एक बार ही आयोजित होता है. गंगा दशहरा के मौके पर हर साल लाखों लोग गंगा में डुबकी लगाने के लिए इलाहाबार जाते हैं.