नई दिल्ली: ज्येष्ठ माह में शुक्ल पक्ष की दशमी को गंगा दशहरा मनाया जाता है. इस साल सोमवार 1 जून 2020 को गंगा दशहरा है. मान्यता है कि गंगा दशहरा के दिन गंगा नदी में स्नान करने से सभी तरह के दुख, तकलीफ और कष्ठ मिट जाते है. हर साल गंगा दशहरा के मौके पर श्रद्धालु गंगा नगीं में विशेष स्नान करते हैं और गंगा नदी की पूरे विधि विधान के साथ पूजा भी की जाती है. लेकिन इस साल कोरोना वायरस के कारण देश में लगे लॉकडाउन के चलते ऐसा कर पाना संभव नहीं है.Also Read - Dussehra 2020 Date: इस दिन मनाया जाएगा दशहरा, जानें रावण दहन और विजयादशमी का शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

इस साल श्रद्धालु गंगा स्नान नहीं कर पाएंगे और ना ही गंगा आरती कर सकेंगे. लेकिन श्रद्धालु घर पर रहकर पानी में गंगाजल की कुछ बूंदे डालकर स्नान कर सकते हैं. इसके अलावा गंगा दशहरा पर कुछ मंत्रों का जाप करके भी व्यक्ति के सभी पाप धुल जाते हैं. आज हम आपको गंगा दशहरा पर किए जाने वाले कुछ मंत्रों के बारे में बताने जा रहे हैं. इन मंत्रों के जाप मात्र से ही व्यक्ति के सभी दुख खत्म हो जाते हैं. और सुख के द्वार खुल जाते हैं. Also Read - Ganga Dussehra 2020: गंगा दशहरा पर करें इन चीजों का दान, सभी दुख और संकट से मिल जाएगी मुक्ति

1. गांगं वारि मनोहारि मुरारिचरणच्युतम्.
त्रिपुरारिशिरश्चारि पापहारि पुनातु माम्॥ Also Read - Ganga Dussehra 2020 Date: जानें कब है गंगा दशहरा, इस शुभ मुहूर्त पर करें मांं गंगा की पूजा

2. देवि सुरेश्वरि भगवति गङ्गे
त्रिभुवनतारिणि तरलतरङ्गे .
शङ्करमौलिविहारिणि विमले
मम मतिरास्तां तव पदकमले ॥१॥

3. भागीरथि सुखदायिनि मातस्तव
जलमहिमा निगमे ख्यातः .
नाहं जाने तव महिमानं
पाहि कृपामयि मामज्ञानम् ॥ २॥

4. तव जलममलं येन निपीतं,
परमपदं खलु तेन गृहीतम् .
मातर्गङ्गे त्वयि यो भक्तः
किल तं द्रष्टुं न यमः शक्तः ॥ ४॥

5. कल्पलतामिव फलदां लोके,
प्रणमति यस्त्वां न पतति शोके .
पारावारविहारिणि गङ्गे
विमुखयुवतिकृततरलापाङ्गे ॥ ६॥

गंगा अवतरण शुभ मुहूर्त

गंगा दशहरा सोमवार, जून 1, 2020 को
दशमी तिथि प्रारम्भ – मई 31, 2020 को 5:36 पी एम बजे
दशमी तिथि समाप्त – जून 01, 2020 को 2:57 पी एम बजे