Garuda Purana: गरुड़ पुराण वैष्णव सम्प्रदाय से सम्बन्धित एक महापुराण है. यह सनातन धर्म में मृत्यु के बाद सद्गति प्रदान करने वाला माना जाता है. इसलिये सनातन हिन्दू धर्म में मृत्यु के बाद गरुड़ पुराण सुनने का प्रावधान है. इस पुराण के अधिष्ठातृ देव भगवान विष्णु हैं. इसमें भक्ति, ज्ञान, वैराग्य, सदाचार, निष्काम कर्म की महिमा के साथ यज्ञ, दान, तप तीर्थ आदि शुभ कर्मों में सर्व साधारण को प्रवृत्त करने के लिये अनेक लौकिक और पारलौकिक फलों का वर्णन किया गया है. इसके अलावा इसमें आयुर्वेद, नीतिसार आदि विषयों के वर्णन के साथ मृत जीव के अन्तिम समय में किये जाने वाले कार्यों का विस्तार से निरूपण किया गया है. गरुड़ पुराण में ऐसी चीजों के बारे में भी बताया गया है जो व्यक्ति की मृत्यु का कारण बन सकती है. आइए जानते हैं इन चीजों के बारे में-Also Read - Loved Ones Clothes After Death: मृत प्रियजनों के मरने के बाद याद में कहीं आप तो नहीं पहनते उनके कपड़ें? जानें ऐसा क्यों नहीं करना चाहिए

बुरा मित्र- व्यक्ति के जीवन में सच्चा मित्र किसी पूंजी के समान होता है. लेकिन एक बुरा मित्र आपके लिए काफी घातक साबित हो सकता है. ऐसे लोग सिर्फ सामने से मित्र होते हैं. ऐसे लोगों की पहचान कर इन्हें जल्द ही खुद से दूर कर देना चाहिए. Also Read - भुवनेश्वर में 23 अगस्त से श्रद्धालुओं के लिए दोबारा खुलेंगे धार्मिक स्थल

बुरे स्वभाव वाली पत्नी- कहा जाता है कि पत्नी अगर अच्छी हो तो व्यक्ति का जीवन सफल हो जाता है. लेकिन अगर पक्नी का स्वभाव खराब हो तो सबकुछ बर्बाद हो जाता है. ऐसी महिलाएं अपने फायदे के लिए कुछ भी कर सकती है. Also Read - Garuda Purana: आपको गरीबी की तरफ धकेल सकती हैं ये 4 आदतें, आज ही सुधारें

बहस करने वाला नौकर- माना जाता है कि जो नौकर आपसे लड़ता है या किसी बात पर बहस करता है तो यह आपके लिए काफी घातक साबित हो सकता है. ऐसा नौकर आपको कभी भी हानि पहुंचा सकता है.

सर्प निवास- जहां आप रहते हैं वहां यदि सांप भी रहता है तो यह आपकी मौत का कारण बन सकता है. क्योंकि जरा सी चूक आपको काफी भारी पड़ सकती है.