Gokulashtami 2018 Date: गोकुल और कान्हा को अलग नहीं किया जा सकता. गोकुल की धरती पर ही कृष्ण का बचपन बीता है. पूरी दुनिया में जिस तरह कृष्ण का जन्मदिन यानी कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाती है. गोकुलवासी उससे बिलकुल अलग रंग में मनाते हैं. इस बार कृष्ण जन्माष्टमी 2 सितंबर को मनाई जाएगी. लेकिन गोकुल की गलियों में पहले से ही कान्हा के जन्म की खुशियां हवाओं में खुशबू की तरह फैल जाती हैं. Also Read - दिल्ली सरकार को सोशल मीडिया पर नफरत फैलाने की मिलीं 7 हजार शिकायतें, हो सकती है कार्रवाई

Krishna Janmashtami 2018: कब मनाई जाएगी जन्माष्टमी, 2 या 3 सितंबर को? जानिये Also Read - Valentines Day 2020 Love Stories: एक प्रेम कहानी उसके नाम!

गोकुल में जन्माष्टमी यानी गोकुलाष्टमी कैसे मनाई जाती है, यह जानना वाकई दिलचस्प है. Also Read - यूपी: पूर्व सैनिक पिता से हथियार छीनकर 17 साल की घायल बेटी ने ही गोली मारी, अंजाम मौत

बच्चे के जन्म के बाद 6वें दिन छठी पूजा की जाती है. लेकिन गोकुल में कृष्ण जन्माष्टमी से पहले ही यानी कान्हा के जन्म से ठीक एक दिन पहले ही छठी की पूजा की जाती है. यह आश्चर्यजनक है और दिलचस्प भी.

दरअसल, भगवान कृष्ण के जन्म के बाद उनके पिता वासुदेव उन्हें अपने मित्र नंदजी के घर छोड़ आए थे. कंस को यह बात जैसे ही पता चली उसने राक्षसी पूतना को मथुरा और गोकुल के उन सभी बच्चों को मारने का आदेश दिया, जो 6 दिन के थे.

krishna Janmashtami 2018 Date and Muhurt: तारीख, मुहूर्त और महत्व

श्रीकृष्ण के जन्म को 6 दिन पूरे हो चुके थे और उनके छठी पूजने की तैयारी चल रही थी. तभी पूतना वहां पहुंच गई. यशोदा मइया को जब यह बात पता चली तो वह घबरा गईं और श्रीकृष्ण को छुपाने लगीं. इसी बीच वह छठी पूजना भूल गईं.

लेकिन पूतना ने श्रीकृष्ण को उठा लिया और उन्हें अपना जहरीला दूध पिलाने लगी. लेकिन श्रीकृष्ण उसे इतनी जोर से काटा कि उसकी मृत्यु हो गई.

Krishna Janmashtami Songs बॉलीवुड के इन 10 गानों के बिना अधूरी है आपकी जन्माष्टमी

समय बीतता चला गया और कान्हा का जन्मदिन आ गया. यशोदा मइया ने गांव के सभी लोगों को बुलाया. लेकिन गांव वालों ने कहा कि कान्हा का छठी तो मनाया ही नहीं गया है, फिर जन्मदिन कैसे मनाया जाएगा.

इस बारे में ब्राह्मणों से सलाह ली गई. ब्राह्मणों के सुझाव पर जन्मदिन से एक दिन पहले कान्हा की छठी पूजा की गई. तभी से गोकुल में जन्माष्टी से एक दिन पहले कान्हा की छठी पूजा होती है.

धर्म और आस्‍था से जुड़ी खबरों को पढ़ने के ल‍िए यहां क्‍ल‍िक करें.