Good Friday 2020: गुड फ्राइडे के दिन ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था और उन्होंने अपने प्राण त्यागे थे. गुड फ्राइडे के पर्व पर उनके इसी बलिदान और उनकी सीखों को याद किया जाता है. Also Read - Good Friday 2020: क्या थे ईसा मसीह के अंतिम शब्द, मृत्यु से पहले हुई थीं ये विचित्र घटनाएं

हर साल गुड फ्राइडे मनाने के दौरान कई परंपराओं का पालन किया जाता है. इस गुड फ्राइडे आप भी जानें ऐसे ही तथ्यों के बारे में, जो इस खास दिन से जुड़े हैं. Also Read - Good Friday 2020: इन संदेशों से याद करें ईसा मसीह का बलिदान, देखें Messages, लगाएं DP, करें Facebook पर शेयर

– गुड फ्राइडे के दिन ईसाई समुदाय के लोग उपवास रखते हैं. प्रसाद स्वरूप गर्म मीठी रोटियां खाते हैं. Also Read - Good Friday 2020: कब है गुड फ्राइडे, इस दिन का महत्व, क्यों मनाया जाता है शोक

– गुड फ्राइडे के दिन लोग चर्च में घंटे नहीं बजाते. इस दिन विशेष प्रार्थना की जाती है. लकड़ी के खटखटे से आवाज की जाती है.

good friday 2020

– मौत से पहले यीशु को ढेरों यातनाएं दी गईं. उनके सिर पर कांटों का ताज रखा गया. गोल गोथा नाम की जगह ले जाकर सूली पर चढ़ा दिया गया.

– प्राण त्‍यागने से पहले यीशु ने कहा था, ‘हे ईश्‍वर! मैं अपनी आत्‍मा को तेरे हाथों में सौंपता हूं.’

– हर साल गुड फ्राइडे पर चर्च और घरों से सजावट की वस्तुएं हटा ली जाती हैं या उन्हें कपडे़ से ढक दिया जाता है.

– कई लोग इस बलिदान के लिए ईसा मसीह की कृतज्ञता व्यक्त करते हुए 40 दिन तक उपवास भी रखते हैं, जो ‘लेंट’ कहलाता है.

– गुड फ्राइडे के तीसरे दिन यानी उसके अगले संडे को ईसा मसीह दोबारा जीवित हो गए थे, इसे ईस्टर संडे कहते है.