Gorakhnath Khichdi: मकर संक्रांति के अवसर पर गुरुवार सुबह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखनाथ पहुंचे और उन्होंने भगवान को खिचड़ी का प्रसाद चढ़ाया और पूजा-अर्चना की. पहले उन्होंने नाथ पीठ की ओर से आस्था की खिचड़ी चढ़ाई और फिर नेपाल राजपरिवार की खिचड़ी बाबा के चरणों में समर्पित की.Also Read - गोरखपुर के BJP विधायक को अखिलेश यादव का ऑफर- सपा में आएं, तुरंत टिकट दे देंगे

जैसे ही मुख्यमंत्री ने खिचड़ी चढ़ाई मंदिर के कपाट आम श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए और समूचा परिसर बाबा गोरखनाथ के जयकारे से गूंज उठा. उसके बाद शुरू हुआ बारी-बारी से खिचड़ी चढ़ाने का सिलसिला. Also Read - गोरखपुर में बतौर मुख्यमंत्री विधानसभा चुनाव लड़ने वाले योगी दूसरे नेता, पहली बार CM के इलेक्शन लड़ने पर क्या आए थे नतीजे

खिचड़ी मेला 2021
हर साल गोरखनाथ मंदिर में धूमधाम से खिचड़ी मेला आयोजित किया जाता है. इस साल भी लोग आधी रात के बाद से ही कतार में खड़े दिखे. श्रद्धालु एक-एक कर बाबा के दरबार में पहुंचने लगे और खिचड़ी चढ़ाकर आशीर्वाद लेने लगे. Also Read - UP Election 2022: गोरखपुर से टिकट मिलने पर CM योगी ने पीएम मोदी और जेपी नड्डा से क्या कहा, जानिए

बहुत से श्रद्धालुओं ने खिचड़ी चढ़ाने से पहले मंदिर परिसर में मौजूद भीम सरोवर में स्नान कर खुद को पवित्र भी किया.
श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मंदिर प्रबंधन ने महिलाओं और पुरुषों के लिए अलग-अलग कतार लगाने का इंतजाम किया है. खिचड़ी चढ़ाकर आशीर्वाद लेने का सिलसिला अनवरत जारी है.

गोरखनाथ मंदिर में बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी चढ़ाने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेशवासियों को मकर संक्रांति पर्व की बधाई दी. उन्होंने कहा कि यह जगतपिता सूर्य की उपासना का पर्व तो है ही, साथ ही किसानों के उमंग और उत्साह का पर्व भी है.

खिचड़ी को चढ़ाना इस बात को प्रदर्शित करता है कि हमारा जो अन्नदाता किसान है, वह जब अपनी मेहनत से अन्न पैदा करता है तो समर्पण के भाव के साथ अपने ईष्ट देव को भी उस अन्न का दान करता है.

मंदिर प्रबंधन के अनुसार यह क्रम गुरुवार को देर शाम तक चलता रहेगा और लाखों श्रद्धालु खिचड़ी चढ़ाने की आनुष्ठानिक परंपरा निभाएंगे.
(एजेंसी से इनपुट)