गुरु गोबिंद सिंह जी का 352वां जन्मोत्सव 13 जनवरी को मनाया जाएगा. इसे गुरु गोबिंद जयंती या गुरु पर्व के रूप में मनाया जाता है. इस दिन विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन होता है. Also Read - Guru Gobind Singh Jayanti 2020: गुरु गोबिंद सिंह के बारे में वो 10 बातें जो आपको जरूर जाननी चाहिए...

Also Read - Guru Gobind Singh Jayanti 2020: प्रकाशोत्‍सव पर भेजें ये Message, Greetings, दें शुभकामनाएं...

13 जनवरी: एक ही दिन मनेगी लोहड़ी और गुरु गोविन्द सिंह जयंती, होगा भांगड़ा जलेंगे दीप… Also Read - लोकसभा चुनाव 2019: रविशंकर ने पटना साहिब से बनाई निर्णायक बढ़त, शत्रुघ्न 1.20 लाख वोट से पीछे

इस गुरु पर्व आप भी अपनों को बधाई संदेश भेजें. खास बात ये है कि ये संदेश हिंदी में हैं.

देखें-

Lohri 2019: लोहड़ी को बनाएं खास इन SMS, Facebook व WhatsApp मैसेजेस के साथ

Happy Lohri 2019: भेजें ये WhatsApp Message, Facebook Status, SMS और दें लोहड़ी की लख-लख बधाई…

Lohri 2019: क्‍यों मनाते हैं लोहड़ी, क्‍या है आग का महत्‍व, जानें दुल्‍ला भट्टी की कहानी…

खालसा पंथ की स्थापना

गुरु गोबिंद सिंह जी चाहते थे कि समाज को असमाजिक तत्वों से बचाने के लिए एक समूह बनाया जाना चाहिए. इसलिए उन्होंने 30 मार्च 1699 को आनंदपुर, पंजाब में अपने अनुयायियों के साथ मिलकर एक समूह बनाया, जिसे नाम दिया खालसा पंथ. दरअसल इस समूह में ऐसे लोगों को रखा गया जो देश के लिए जान देने से पीछे ना हटें. देश जब बलिदान मांगे, तो तैयार रहें. वास्तव में खालसा एक फारसी शब्द है, जिसका अर्थ होता है ‘पवित्र’.

धर्म की और खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.